जियांग ज़ेमिन की मौत की खबरें

  • 7 जुलाई 2011
चीन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चीन में ब्लॉगर्स सरकारी सेंसरशिप से बच निकलने की हर कोशिश कर रहे हैं.

चीन में पूर्व राष्ट्रपति जियांग ज़ेमिन की मौत की ख़बरों से परेशान चीनी सरकार ने इंटरनेट पर उनके नाम को सेंसर कर दिया है.

जियांग शब्द का अर्थ नदी भी होता और चीन में इंटरनेट पर इस शब्द की खोज को अवैध करार दे दिया गया है.

गत शुक्रवार को चीन की वामपंथी पार्टी की स्थापना के 90 साल पूरे होने के समारोह में जियांग ज़ेमिन की अनुपस्थिति से उनकी मृत्यु की ख़बरों का बाज़ार गर्म हो गया.

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने इस तरह की तमाम ख़बरों को "कोरी अफ़वाह" करार दिया है. शिन्हुआ ने ऐसा किसी मज़बूत सूत्र से बातचीत के बाद ही करने का दावा किया है.

सरकार द्वारा सेंसरशिप की वजह से लोगों ने अलग अलग ढंग से जियांग ज़ेमिन का नाम लिखना शुरू कर दिया है.

चीनी सरकार के वेब सेंसरों ने उन सारे चीनी ब्लॉगस को मिटा दिया है जहाँ जियांग ज़ेमिन के नाम का उल्लेख है. इन्ही सेंसरों ने तमाम विदेशी समाचार माध्यमों की उन वेब साइटों को ब्लॉक कर दिया है जहाँ जियांग ज़ेमिन के स्वास्थ्य से जुड़ी खबरें छपी हैं.

ब्लॉगर्स ने खोजे रास्ते

चीन में इंटरनेट पर "जियांग ज़ेमिन" के नाम की खोज करने पर एक ट्विटर जैसी सेवा पर संदेश आ जाता है कि ये खोज अवैध है. सेंसर करने के सरकारी प्रयासों से बच निकलने के लिए ब्लॉगर्स अंग्रेजी भाषा के शब्द इस्तेमाल कर रहे हैं या उससे मिलते जुलते शब्द इस्तेमाल कर रहे हैं.

हालाँकि चीन की मुख्यभूमि पर समाचार माध्यमों में जियांग ज़ेमिन के स्वास्थ्य के जुड़ी कोई ख़बर नहीं छपी है लेकिन हॉंग कॉंग की मीडिया में उनकी बुधवार रात को मृत्यु की खबरें हैं.

कुछ अपुष्ट ख़बरों के अनुसार जियांग ज़ेमिन का इलाज बीजिंग के एक सैन्य अस्पताल में चल रहा है. जियांग ज़ेमिन ने करीब 12 साल तक चीन का राष्ट्रपति रहने के बाद 2003 में राष्ट्रपति हू जिंताओ को सत्ता सौंपी थी.

संबंधित समाचार