नौका डूबी, 110 के मरने की आशंका

  • 11 जुलाई 2011
नौका दुर्घटना इमेज कॉपीरइट RIA Novosti
Image caption राहतकार्य जारी है लेकिन अब किसी के बचने की उम्मीद कम

रूस में हुई एक नौका दुर्घटना में 100 से ज़्यादा लोगों के मारे जाने की आशंका जताई जा रही है.

राजधानी मॉस्को से 750 किलोमीटर दूर तातरस्तान में वोल्गा नदी में ये दुर्घटना हुई.

राहतकार्य तेज़ी से चल रहा है, लेकिन अभी तक अधिकारियों ने सिर्फ़ नौ लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है.

रूस के राष्ट्रपति मित्री मेदवदेव ने मंगलवार यानि कल राष्ट्रीय शोक मनाने की घोषणा की है.

क्षेत्रीय राजधानी कज़ान की ओर जा रही इस दो मंज़िला नौका 'बुल्गारिया' पर करीब 300 लोग सवार थे, जिनमें चालक दल के सदस्य भी शामिल हैं.

ख़बरों के मुताबिक राहत कार्य में लगे गोताखोरों ने 20 से ज़्यादा लोगों के शव बाहर निकाले हैं. मरने वालों में दर्जनों बच्चे भी शामिल हैं.

ये नौका क्षेत्रीय राजधानी कज़ान की ओर जा रही थी, उसी दौरान ये तूफ़ान में फँस गई.

'तकनीकी ख़राबी'

करीब 50 राहतकर्मी रविवार रात से ही राहत कार्य में जुटे हुए हैं, लेकिन अब किसी के ज़िंदा बचने की उम्मीद नहीं दिखाई दे रही है.

माना जा रहा है कि ख़राब मौसम और 55 साल पुरानी नौका में आई तकनीकी ख़राबी के कारण ये हादसा हुआ.

लेकिन रुस के अपातकाल स्थिति मंत्री का कहना है कि इस नाव में इतने सारे लोगों का भार झेलने की क्षमता नहीं थी.

उन्होंने कहा कि कि इस नाव में 280 लोग मौजूद थे, जबकि ये नाव केवल 130 लोगों का ही भार झेल सकती थी.

रूस के राष्ट्रपति मित्री मेदवदेव ने मंगलवार को राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है और साथ ही पूरे रूस के परिवहन विभाग की समीक्षा करने का फ़ैसला किया है. उन्होंने कहा, “ये बात तो साफ़ है कि मौसम ख़राब होने के बावजूद अगर सुरक्षा नियमों का पालन किया जाता, तो इस दुर्घटना को होने से रोका जा सकता था. इस मामले की गहन जांच की जाएगी और इस नाव के मालिक से कड़े सवाल किए जाएगें. आखिर इतने सारे लोगों को एक ही नाव में क्यों भरा गया? इसके अलावा हमें हमारे परिवहन विभाग की समीक्षा करने की भी ज़रूरत है.”

कड़े और लंबे राहतकार्य के बाद अब इस नाव को नदी के भीतर से पूरी तरह निकालने की तैयारी की जा रही है. इस काम में कम से कम पांच दिन लग सकते हैं.

संबंधित समाचार