कैमरन के बचाव में उतरे विलियम हेग

  • 16 जुलाई 2011
रूपर्ट मर्डोक इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मर्डोक ने सार्वजनिक माफ़ी मांगी

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने रूपर्ट मर्डोक की कंपनी और उनसे जुड़े फ़ोन हैकिंग के विवाद को लेकर प्रधानमंत्री डेविड कैमरन का बचाव करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री और 'न्यूज़ इंटरनेशनल' के बीच हुए संपर्क उनके लिए शर्मिंदगी का कारण नहीं है.

ग़ौरतलब है कि फ़ोन हैकिंग मामले में ये बात सामने आई थी कि डेविड कैमरन, 'न्यूज़ इंटरनेशनल' के वरिष्ठ सदस्यों से पिछले 15 महीनों में 26 बार मिले थे.

विलियम हेग ने इस बात को लेकर भी प्रधानमंत्री का बचाव किया है कि उन्होंने 'न्यूज़ इंटरनेशनल'से जुड़े एंडी कल्सन से विवाद के चलते पद छोड़ने के बाद भी मुलाक़ात की.

ग़ौरतलब है कि शनिवार को ब्रिटेन के कई अख़बारों में रूपर्ट मर्डोक की तरफ़ से पूरे पन्ने का माफ़ीनामा छपा है. ये माफ़ीनामा हमें खेद है के शीर्षक के साथ छपा है.

माफ़ीनामा 'द गार्डियन' अख़बार में भी छपा है जिसने सबसे पहले इस फ़ोन हैकिंग मामले का पर्दाफ़ाश किया था.

माफ़ीनामे पर ख़ुद रूपर्ड मर्डोक का हस्ताक्षर है और मर्डोक ने लिखा है कि 'न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड' हमेशा ही दूसरों की जवाबदेही तय करने की कोशिश में रहा. लेकिन जब इसकी ख़ुद की बारी आई तो ऐसा करने में वो विफल रहा.

इस्तीफ़ा

इस बीच रूपर्ट मर्डोक की कंपनी न्यूज़ कॉरपोरेशन के दो सबसे उच्च अधिकारियों ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

ले हिंटन उस समय 'न्यूज़ इंटरनेशनल' के मुख्य अधिकारी थे जिस वक़्त 'न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड' के पत्रकार फ़ोन हैकिंग कर रहे थे.

उनके इस्तीफ़े से पहले 'न्यूज़ इंटरनेशनल' की मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेबेका ब्रुक्स ने अपने पद से इस्तीफ़ा दिया.

ले हिंटन जिनका इस्तीफ़ा इस कड़ी में सबसे ताज़ा है, उन्होंने रूपर्ट मर्डोक की कंपनी के लिए 52 सालों तक काम किया.

एक बयान में उन्होंने कहा कि वे 'न्यूज़ ऑफ़ दी वर्ल्ड' में हो रही तमाम गतिविधियों से अनभिज्ञ थे. उनका कहना था कि अब जो कुछ हो रहा है उसे वे बेहद दुखी मन से देख रहे हैं.

मुलाक़ात

अख़बार में छपे माफ़ीनामे के अलावा रूपर्ट मर्डोक ने लंदन में मिली डाउलर के परिवार वालों से भी माफ़ी मांगी.

मर्डोक ने इस परिवार से मिलने का अनुरोध तब किया जब उन्हें पता चला कि मिली डाउलर की हत्या से पहले उनका फ़ोन 'न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड' अख़बार ने 2002 में हैक किया था.

परिवार के वकील ने कहा कि रूपर्ड मर्डोक अपनी माफ़ी में काफी संजीदा और ईमानदार थे.

उन्होंने कई बार माफ़ी मांगी और बार बार अपने हाथों से अपने वे सिर को पकड़ कर अफ़सोस ज़ाहिर कर रहे थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार