सीरियाई विपक्ष की बैठक तुर्की में

  • 16 जुलाई 2011
सीरिया इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सीरिया में प्रमुख विपक्षी नेता राष्ट्रीय संवाद का बहिष्कार कर रहे हैं

सीरिया में विपक्षी नेताओं की एक बैठक पड़ोसी देश तुर्की में हो रही है.

इस बैठक का उद्देश्य राष्ट्रपति बशर अल असद के ख़िलाफ विपक्ष को एकजुट करना है. यह बैठक ऐसे समय हो रही है जबकि शुक्रवार को सीरिया में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षाकर्मियों के हमले में कई लोग मारे गए हैं.

नेशनल साल्वेशन कॉंग्रेस नाम से हो रही इस बैठक में लगभग साढ़े तीन सौ विपक्षी नेता और कार्यकर्ता हिस्सा ले रहे हैं.

सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों में काफ़ी गुस्सा है, उनका कहना है कि शुक्रवार को सुरक्षा बलों की कार्रवाई में 28 लोग मारे गए हैं, जिनमें से 16 लोग दमिश्क में मारे गए.

उनका कहना है कि शुक्रवार को राष्ट्रपति बशर अल असद के ख़िलाफ़ हुई रैली, पिछले चार महीनों की सबसे बड़ी रैली थी, सरकार विरोधियों का दावा है कि इस रैली में हमा और देर इज़ूर शहरों में कुल मिलाकर दस लाख लोगों ने हिस्सा लिया.

आपसी रिश्तों पर असर

सीरियाई राष्ट्रध्वज फहराकर और राष्ट्रगान गाने के बाद इस्तांबूल में राष्ट्रपति असद के विरोधियों की बैठक शुरू हुई, इस बैठक के आयोजकों का कहना है कि वे राष्ट्रपति बशर अल असद की तानाशाही को ख़त्म करके देश में लोकतंत्र लाना चाहते हैं.

इससे पहले भी दो बार सीरियाई विपक्षी कार्यकर्ता तुर्की में बैठकें कर चुके हैं, इस बैठक का मुख्य उद्देश्य विपक्षी गुटों में एकजुटता लाना और परस्पर तालमेल के लिए रणनीति तैयार करना बताया गया है.

तुर्की ने विपक्षी नेताओं को ऐसी बैठकें करने की अनुमति दी है जिसकी वजह से दोनों देशों के आपसी रिश्तों पर असर पड़ रहा है.

मार्च में सीरिया में विरोध प्रदर्शन शुरू होने से पहले दोनों देशों के रिश्ते बहुत अच्छे थे, तुर्की ने सीरिया के राष्ट्रपति से बार बार अपील की है कि वे राजनीतिक सुधारों की घोषणा करें, लंबे समय तक इंतज़ार करने के बाद तुर्की ने बयान देना शुरू कर दिया कि सीरिया की सरकार अपनी ही जनता का ख़ून बहा रही है.

सीरिया में मार्च से जारी हिंसा में एक अनुमान के मुताबिक़ अब तक 1400 आम नागरिक मारे जा चुके हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार