नेटो ने हैकिंग की जांच शुरू की

  • 22 जुलाई 2011
कंप्यूटर
Image caption ये साइबर हमला इस समूह के 21 सदस्यों की अमरीका, ब्रिटेन और नीदरलैंडस में ग़िरफ़्तारी के कुछ ही दिनों बाद हुआ था.

नेटो ने कहा है वो इस बात की जांच कर रहा है कि उसका कंप्यूटर नेटवर्क कैसे हैक हुआ.

ख़ुद को ''अज्ञात" बताने वाले एक अंतरराष्ट्रीय कंप्यूटर समूह ने दावा किया था कि उन्होंने नेटो की सुरक्षा भेदकर सैंकड़ो गोपनीय दस्तावेज़ डाउनलोड कर लिए थे.

हालांकि डाउनलोड किए गए दो दस्तावेज़ों को एक वेबसाइट पर लगाया था लेकिन समूह का कहना था कि इन दस्तावेज़ों को प्रकाशित करना ग़ैर ज़िम्मेदाराना होगा.

ये साइबर हमला इस समूह के 21 सदस्यों की अमरीका, ब्रिटेन और नीदरलैंडस में ग़िरफ़्तारी के कुछ ही दिनों बाद हुआ था.

ख़ुद को "अज्ञात" बताने वाले समूह ने दावा किया है कि गुप्त दस्तावेज़ों का 'एक गिगाबाइट डाटा' उनके हाथ लगा है.

'मज़ेदार सूचनाएं'

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट 'ट्विटर' पर एक व्यंग्यात्मक टिपण्णी करते हुए हैकर्स ने नेटो से कहा है कि उसकी "मज़ेदार सूचनाएं" समूह के पास हैं.

ये हमला नेटो की उस रिपोर्ट के बाद आया है जिसमें कहा गया था कि हैकर समूह धीरे-धीरे बेहतर होता जा रहा है लेकिन वो जितने हमले करेगा उनको रोक पाने के उपाय ढूंढ पाना उतना आसान होता जाएगा.

इसके जवाब में समूह ने कहा है कि नेटो किसी ग़लतफ़हमी में न रहें क्योंकि 'बिना सिर वाले सांप को मारना मुश्किल होगा'.

अब तक वेबसाइट पर डाले गए दस्तावेज़ों में वैसी सूचनाएं नहीं हैं जिससे नेटो को बहुत चिंता करने की ज़रूरत है फिर भी एक नेटो अधिकारी ने इसकी निंदा की है और कहा है कि इससे सुरक्षा को ख़तरा उत्पन्न हो सकता है.

संबंधित समाचार