लीबियाई विद्रोहियों को ब्रिटेन की मान्यता

विलियम हेग
Image caption लंदन स्थित ब्रिटिश विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय में ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग

ब्रिटेन ने अपने यहाँ कार्यरत लीबिया के सभी राजनयिकों को निष्कासित करते हुए लीबिया के विपक्ष को वहाँ की वैध सरकार मानने की घोषणा की है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने कहा है कि ब्रिटेन लीबिया में विपक्ष की राष्ट्रीय परिवर्तनशील परिषद को देश की एकमात्र शासकीय संस्था के तौर पर पहचान करेगा.

उन्होंने कहा कि इस परिषद को लंदन में एक नया लीबियाई राजदूत बनाने के लिए आमंत्रित करेगा.

विलियम हेग ने लंदन में कहा,"हम लीबियाई सरकार के प्रतिनिधियों की मान्यता ख़त्म करते हैं और वहाँ की राष्ट्रीय परिवर्तनशील परिषद को लंदन में लीबियाई दूतावास का नया प्रभारी नियुक्त करने के लिए निमंत्रित करते हैं."

उन्होंने साथ ही कहा कि ब्रिटेन में कर्नल गद्दाफ़ी की सरकार द्वारा नियुक्त किए गए सभी बचे राजनयिकों को निष्कासित किया जा रहा है.

ब्रितानी वित्तमंत्री ने साथ ही कहा कि ब्रिटेन राष्ट्रीय परिवर्तनशील परिषद की मदद के लिए 15 करोड़ डॉलर की लीबियाई तेल संपदा को जारी करेगा.

ब्रिटेन और लीबिया

ब्रिटेन में लीबिया के राजदूत ओमर जेलबान को मई में ही निष्कासित किया जा चुका है.

उन्हें लीबिया की राजधानी त्रिपोली में ब्रिटिश राजदूत पर हुए हमले के बाद ब्रिटेन से चले जाने के लिए कहा गया था.

ब्रिटेन से पहले अमरीका, फ़्रांस और कई अन्य देश लीबिया के विद्रोहियों को वहाँ की वैध सरकार के तौर पर मान्यता दे चुके हैं.

लीबिया में कर्नल गद्दाफ़ी की सेनाओं के विरूद्ध नेटो के बमबारी अभियान में ब्रिटेन ने अग्रणी भूमिका निभाई है और वो बार-बार कर्नल गद्दाफ़ी से गद्दी छोड़ने की माँग कर रहा है.

लीबिया में विद्रोहियों और गद्दाफ़ी समर्थक सेनाओं के बीच पिछले पाँच महीनों से लड़ाई चल रही है.

वहाँ विद्रोहियों ने पिछले 42 साल से सत्ता में बने हुए कर्नल गद्दाफ़ी के ख़िलाफ़ विद्रोह छेड़ रखा है.

नेटो ने भी बाद में लीबिया में उड़ान रहित क्षेत्र को लागू करवाने के लिए सैन्य कार्रवाई शुरू की जिसे संयुक्त राष्ट्र का समर्थन हासिल है.

संबंधित समाचार