अमरीकी संसद की प्रतिनिधि सभा में बजट विधेयक पास

  • 30 जुलाई 2011
जॉन बोएहनर इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका में संसद के निचले सदन हॉउस ऑफ रेप्रेजे़नटेटिव्स ने रिपब्लिकन पार्टी की ओर से प्रस्तावित एक ऐसे बिल को पास कर दिया है जिससे देश की ऋण सीमा बढ़ सकेगी.

इस बिल को इसलिए अहम बताया जा रहा है क्योंकि इसकी मदद से सरकार अपने क़र्ज़ चुका सकेगी.

हालांकि इस योजना के ऊपरी सदन सेनेट से पारित होने की संभावना बहुत कम है.

सेनेट में राष्ट्रपति ओबामा की डेमोक्रेट पार्टी का बहुमत है जो सामाजिक कार्यक्रमों के लिए होनेवाले ख़र्चों में कोई कटौती नहीं करना चाहती.

प्रतिनिधि सभा में स्पीकर जॉन बोएहनर ने इस प्रस्ताव को पेश किया था और इसके पक्ष में 218 वोट पड़े जबकि इसके विरोध में 210 वोट डाले गए.

ख़ास बात ये रही की इस प्रस्ताव का विरोध करने वाले 22 प्रतिनिधि रिपब्लिकन पार्टी के थे जबकि सभी डेमोक्रेट सदस्यों ने इसका विरोध किया.

पारित प्रस्ताव के तहत अमरीका की ऋण लेने की क्षमता में 900 अरब डॉलर का इजाफा हो सकेगा.

हालांकि इस बिल में अमरीकी सरकार के लिए कई बड़ी कटौतियों का भी प्रावधान है.

ओबामा की गुहार

इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चेतावनी दी थी कि अगर राजनीतिक दलों ने देश के कर्ज़ संकट को निबटाने के उपाय के बारे में जल्दी समझौता नहीं किया तो सारे अमरीकी लोगों को इससे परेशान होना पड़ेगा.

उन्होंने अमरीकी लोगों से आग्रह किया था कि वे राजनेताओं पर समय रहते अपने मतभेद दूर करने के लिए दबाव बढ़ाएँ.

ओबामा ने साथ ही चेतावनी दी है कि इस संकट के कारण अमरीका की साख पर असर पड़ सकता है और उसकी क्रेडिट रेटिंग गिर सकती है.

ओबामा ने इस बारे में दोनों पक्षों से समझौता कर किसी सुलह पर पहुँचने का आह्वान करते हुए कहा कि आपस में समझौता कर इस संकट को ख़त्म करने की कई संभावनाएँ हैं.

संबंधित समाचार