सीरिया: विद्रोहियों के 'गढ़' में सेना के टैंक

सीरिया-हमा (फ़ाइल) इमेज कॉपीरइट AP

सीरिया की सेना ने सरकार विरोधी प्रदर्शनों का गढ़ माने जाने वाले हमा शहर पर हमला बोल दिया है.

रविवार तड़के सेना की टुकड़ियों ने कई तरफ़ से शहर में घुसना शुरू कर दिया और नागिरकों ने बीबीसी से कहा है कि ज़बरदस्त गोलीबारी जारी है.

हमा में मौजूद एक व्यक्ति का कहना है कि ख़बर है 20 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं और कई घायल हैं.

एक स्थानीय चिकित्सक ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा है कि सेना टैंकों के भारी मशीन गनों से फ़ायिरंग कर रही है और उन रूकावटों को ध्वस्त कर रही है जो स्थानीय लोगों ने तैयार किए थे.

उन्होंने फ़ोन पर बताया, "टैंक से हर तरफ़ गोलियां चलाई जा रही हैं और जनता ने जिन रूकावटों को ख़ड़ा किया था सेना उन्हें तहस-नहस कर रही है."

उनका कहना था कि अस्पताल में ख़ून की कमी है.

सीरिया में पिछले कई महीनों से राष्ट्रपति बशर अल असद की हुकुमत के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन जारी हैं.

साल 1982 में राष्ट्रपति असद के पिता के ख़िलाफ़ हमा में हुए एक विद्रोह को कुचल दिया गया था.

हाल के दिनों में भी हमा में असद प्रशासन के ख़िलाफ़ बड़े प्रदर्शन हुए हैं.

मानवधिकार के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं का कहना है कि मध्य-मार्च से जारी प्रदर्शनों में 1500 से ज़्यादा आम लोग और 350 सुरक्षाकर्मी मारे जा चुके हैं.

बारह हज़ार से ज़्यादा लोगों को ग़िरफ़्तार किया गया है जबकि तीन हज़ार अन्य लापता हैं.

बावजूद इसके विरोधों में कोई कमी नहीं दिखाई दे रही है.

संबंधित समाचार