पाकिस्तान पर चीन का आरोप

  • 1 अगस्त 2011
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चीन के कुछ प्रांतों में इस्लामी चरमपंथी गतिविधियां होती रही हैं.

चीन का कहना है कि पाकिस्तान के चरमपंथी शिविरो में प्रशिक्षित चरमपंथियों ने देश के ज़िनजियांग प्रांत में आम नागरिकों पर हमला किया है जिसमें दो दिनों में 20 लोग मारे गए हैं.

चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक शनिवार को हुए हमलों में नौ लोगों की मौत हुई है जबकि रविवार को 11 लोग मारे गए हैं जिसमें संदिग्ध चरमपंथी भी शामिल हैं.

कशगार म्युनिसिपल गवर्नमेंट के बयान के अनुसार पाकिस्तान में ट्रेनिंग पाए हुए ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट के चरमपंथियों ने ये हमला किया था.

शिन्हुआ ने यह बयान जारी किया है जिसके अनुसार ‘‘चीन के पश्चिमी प्रांत में हुए हमलों के पीछे धार्मिक अलगाववादियों का हाथ है जिन्हें विदेशों में ट्रेनिंग मिली है.’’

बयान कहता है, ‘‘प्राथमिक जांच से पता चला है कि इस गुट के प्रमुख को विस्फोटक बनाने और हथियार चलाने का प्रशिक्षण ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट के पाकिस्तान में स्थित शिविर में मिला था.’’

जिनज़ियांग प्रांत में वर्ष 2009 में भीषण दंगे हुए थे जिसमें कम से कम 200 लोग मारे गए थे जिसके बाद चीन ने उइगुर मुस्लिम अलगाववादियों के ख़िलाफ़ अभियान शुरु कर दिया था.

इसी वर्ष 18 जुलाई को प्रांत के होतान शहर में 14 दंगाई उस समय मारे गए जब उन्होंने एक पुलिस थाने को निशाना बनाने की कोशिश की थी.

हालांकि ये पहली बार है जब चीन ने चरमपंथी शिविरों के मामले में अपने सहयोगी पाकिस्तान पर ऊंगली उठाई हो. चीन का कशगार प्रांत पाकिस्तान कश्मीर से सटा हुआ है और दोनों देशों के बीच व्यापार इसी सीमा से होता है.

रविवार को जब इस प्रांत में चरमपंथी हमला हुआ तो पूरे शहर में अफरा तफरी मच गई. हमले में छह नागरिक और पाँच चरमपंथी मारे गए थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार