हमा शहर में सीरियाई टैंकों का हमला

  • 1 अगस्त 2011
हमा में सीरियाई कार्रवाई इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सीरियाई शहर हमा में दूसरे दिन भी टैंकों के हमले की ख़बर है

सीरियाई सुरक्षा बलों ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध कार्रवाई के दूसरे दिन हमा शहर पर फिर से हमले किए हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों और कार्यकर्ताओं ने बताया है कि रात भर हुई छिटपुट गोलीबारी के बाद टैंकों के ज़रिए हमला किया गया.

एक अपुष्ट ख़बर के अनुसार पूर्वोत्तर के एक ज़िले में हुए हमले में चार लोगों की मौत हुई है.

रविवार को सुरक्षा बलों की कार्रवाई में बीसियों लोग मारे गए थे. आंदोलनकारियों के अनुसार देश भर में 130 लोग मारे गए थे.

बेरुत में मौजूद बीबीसी संवाददाता जिम म्यूर के अनुसार हमा अब भी सरकार के बजाए स्थानीय लोगों के ही नियंत्रण में लग रहा है.

उनके अनुसार टैंक और सेना ने रविवार को शहर पर नियंत्रण करने की कोशिश की थी मगर रात में वे शहर से बाहर के इलाक़ों में चले गए और अब एक बार फिर वे शहर पर नियंत्रण की कोशिश कर रहे हैं.

अंतरराष्ट्रीय दबाव

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बशर अल-असद ने सरकारी सेना की कार्रवाई की तारीफ़ की थी

सीरिया भर में जारी प्रदर्शनों को दबाने की सरकारी कोशिशों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना हुई है. रूस ने कड़ी आलोचना करते हुए राष्ट्रपति बशर अल-असद से ये 'दमन' रोकने की माँग की है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी कहा था कि वह सीरियाई सरकार की बर्बर कार्रवाई से सकते में हैं.

जर्मनी और इटली ने स्थिति पर चर्चा के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात् बैठक बुलाने की माँग की है.

उधर बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में ब्रितानी विदेश मंत्री विलियम हेग ने सीरिया पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ाने की माँग की थी.

वहीं सीरियाई राष्ट्रपति असद ने 'देश के दुश्मनों को नाकाम' करने के लिए सेना की तारीफ़ की थी.

संबंधित समाचार