सीरिया पर सुरक्षा परिषद की आपात बैठक

  • 2 अगस्त 2011
सुरक्षा परिषद इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption सीरिया मामले पर सुरक्षा परिषद में सहमति बनती दिख रही है

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने विरोधियों के ख़िलाफ़ सीरिया सरकार की दमनकारी नीतियों पर प्रस्तावित निंदा प्रस्ताव पर बातचीत के लिए न्यूयार्क में एक आपात बैठक की है.

बैठक एक बंद कमरे में हुई.

इस बीच भारत ने दिल्ली पहुंचे सीरिया के उप विदेश मंत्री फैसल मेकदाद से कहा है कि सीरिया को हिंसा छोड़कर धैर्य से काम लेने और राजनीतिक सुधारों को लागू करने की ज़रूरत है.

सुरक्षा परिषद की बैठक के बारे में बात करते हुए अमरीकी राजदूत सुज़न राईस कहा कि वहां के हालात चिंताजनक हैं.

उन्होंने कहा कि इस बात को लेकर व्यापक चिंता थी और सभी ने इसकी निंदा की.

रूस सीरिया के विरूद्ध किसी भी निंदा प्रस्ताव से मना करता रहा है लेकिन माना जा रहा है कि शायद वो इस मामले पर एक बयान के लिए तैयार हो जाए.

भारत ने, जिसके पास फ़िलहाल सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता है, कहा है कि बढ़ रही हिंसा को लेकर सोचों में एक सहमति का माहौल है.

परिषद इस मामले पर मंगलवार को फिर से बैठक करेगा.

'आकांक्षाओं का ध्यान रखें'

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि सदस्य देश धीरे-धीरे उस बयान की तरफ बढ़ते दिख रहे हैं जिसमें बढ़ती हिंसा की निंदा की जाएगी.

भारतीय विदेश मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सीरिया के उप विदेश मंत्री दो दिनों की भारत यात्रा पर हैं जिस दौरान उन्होंने भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा से मुलाक़ात की.

बयान के मुताबिक़ एसएम कृष्णा ने उप विदेश मंत्री से कहा कि सीरिया को अपने लोगों की आकांक्षाओं को ध्यान में रखना चाहिए.

इस बीच सीरिया में प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ सैनिक कार्रवाई जारी है.

मानवधिकार संस्थाओं का कहना है कि रविवार से अब तक 130 लोग मारे जा चुके हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार