'गद्दाफ़ी के बेटे की कथित मौत की जाँच'

  • 5 अगस्त 2011
गद्दाफ़ी
Image caption लीबिया सरकार ने ख़बरों का खंडन किया है

लीबिया सरकार ने इस ख़बर को ख़ारिज किया है कि गुरूवार की रात ज़िल्तान शहर में नेटो के हवाई हमले में राष्ट्रपति कर्नल गद्दाफ़ी के एक पुत्र ख़मिस गद्दाफ़ी मारे गए हैं.

लीबिया सरकार के प्रवक्ता मूसा इब्राहिम ने कहा कि ख़मिस गद्दाफ़ी ज़िंदा है और सही सलामत है.

दूसरी ओर नेटो ने कहा है कि वो कर्नल गद्दाफ़ी के एक बेटे की नेटो हमले में मारे जाने की ख़बरों की जांच कर रहा है.

इस तरह की ख़बरें आ रहीं है कि लीबिया के पश्चिमी शहर ज़िल्तान में गुरूवार रात में हुए नेटो के हवाई हमले में कर्नल गद्दाफ़ी के एक बेटे ख़मिस की मौत हो गई है. ज़िल्तान शहर राजधानी त्रिपोली और विद्रोहियों के गढ़ मिस्राता में स्थित है.

मिस्राता में विद्रोहियों की तरफ़ से इस बारे में अब तक कोई बयान नहीं आया है.

झटका

मिस्राता में मौजूद बीबीसी संवाददाता ऑरला ग्यूरिन ने बताया कि ये दूसरी बार है जब ख़मिस गद्दाफ़ी के मारे जाने की ख़बर आ रही है.

लेकिन अगर उनके मारे जाने की ख़बरों की पुष्टि हो जाती है तो ये लीबियाई नेता कर्नल गद्दाफ़ी के लिए बहुत बड़ा झटका होगा.

ख़मिस गद्दाफ़ी 32 ब्रिगेड नाम की एक विशेष सैन्य टुकड़ी के प्रमुख हैं. इस विशेष सैन्य टुकड़ी को काफ़ी प्रभावी माना जाता है.

यहां तक की विद्रोहियों के बीच भी ख़मिस गद्दाफ़ी का काफ़ी नाम है. विद्रोही जितना उनसे नफ़रत करते है, उतना ही उनके नाम से ख़ौफ़ खाते हैं.

हमला

नेटो ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि उसने बीती रात ज़िल्तान शहर पर दो हवाई हमले किए थे.

नेटो का कहना है कि दोनों ही हमले सैन्य ठिकानों पर किए गए थे.

एक हमला असलहा बारूद के एक गौदाम में हुआ था जबकि दूसरा हमला मिलिट्री पुलिस के ठिकाने पर किया गया था.

नेटो की एक प्रवक्ता ने कहा कि नेटो किसी व्यक्ति विशेष को निशाना नहीं बनाता है, लेकिन बावजूद इसके नेटो ख़मिस गद्दाफ़ी के मारे जाने की ख़बरों की जांच कर रहा है.

संबंधित समाचार