अमरीकी सैनिक को तीन साल क़ैद

एक अमरीकी सैनिक (फ़ाइल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाँच अमरीकी सैनिकों पर निहत्थे नागरिकों को मारने का आरोप है

हिरासत में रखे गए एक निहत्थे अफ़ग़ान नागरिक की हत्या के आरोप में एक अमरीकी सैनिक को तीन साल क़ैद की सज़ा सुनाई गई है.

ये घटना पिछले साल की है.

एडम विनफ़ील्ड नाम के इस सैनिक को बेवजह मानव वध का दोषी पाया गया है.

उनके ख़िलाफ़ षडयंत्र पूर्वक हत्या जैसे और कुछ आरोप थे लेकिन अपने चार और सहयोगियों के साथ मुक़दमे का सामना करने की सहमति देने के बाद ये आरोप ख़ारिज कर दिए गए थे.

इन आरोपों में उन्हें आजीवन कारावास की सज़ा हो सकती थी.

इन सब पर आरोप था कि वे खेल के तौर पर नागरिकों की हत्या करते थे और फिर इस तरह के सबूत रखने की कोशिश करते थे जिससे ये लगे कि उन पर पहले हमला किया गया था.

विनफ़ील्ड ने सबसे पहले इस घटना की जानकारी दी थी लेकिन सेना ने उनकी शिकायत पर शुरुआत में कोई कार्रवाई नहीं की.

मामला

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार 23 वर्षीय विनफ़ील्ड पाँचवीं स्ट्राइकर ब्रिगेड के पाँच सैनिकों में से एक थे जिन पर पिछले साल तीन अफ़ग़ान नागरिकों को मारने का आरोप था.

Image caption अफ़ग़ानिस्तान में पिछले दस साल से बड़ी संख्या में अमरीकी सैनिक तैनात हैं

इन सैनिकों पर आरोप लगाया गया था कि हत्या के आरोप से बचने के लिए वे युद्ध की एक छद्म परिस्थिति निर्मित कर रहे थे.

एक अख़बार ने दो मई, 2010 को ख़बर दी थी कि सार्जेंट कार्विन गिब्स ने एक अफ़ग़ान नागरिक की ओर एक हथगोला फेंका और उसके बाद विनफ़ील्ड और एक और सैनिक जेरेमी मारलॉक उसे गोली मार दी थी.

सार्जेंट कार्विन गिब्स को इस गुट के मुखिया कहा गया था.

विनफ़ील्ड ने हत्या के आरोप से इनकार किया था. हालांकि उसने ये स्वीकार कर लिया कि वह दूसरे सैनिक को ऐसा करने से रोकना उसका काम था लेकिन वह ऐसा नहीं कर सका.

इस सैनिक ने अफ़ग़ानिस्तान में हो रही इस तरह की घटनाओं के बारे में सबसे पहले अपने परिवार को जानकारी दी थी और उनके पिता ने सेना मुख्यालय को इसकी जानकारी दी थी.

लेकिन सेना ने तब कोई कार्रवाई नहीं कि जब तक किसी और ने इस पर सवाल उठाए.

इस मामले में इससे पहले भी एक सैनिक को सज़ा सुनाई जा चुकी है.

संबंधित समाचार