अमरीका में सिगरेट कंपनियों का मुकदमा

सिगरेट
Image caption सचित्र चेतावनी में ख़राब फेफड़े, धूम्रपान की वजह से हुई मौत और ख़राब दाँतों की तस्वीरें शामिल हैं.

अमरीका में पाँच तंबाकू कंपनियों ने सिगरेट के पैकेटों पर छपने वाली स्वास्थ्य संबधी सचित्र चेतावनी को लेकर वहाँ के फ़ूड एंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन पर मुक़दमा दायर कर दिया है.

इन तंबाकू कंपनियों का तर्क है कि इससे उनकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के संवैधानिक अधिकार का हनन होता है.

फूड एंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन ने इस मुक़दमे के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की है.

सितंबर 2012 से नए क़ानून के तहत सिगरेट के पैकेटों पर नई चेतावनी छापनी ज़रूरी हो जाएगी.

आरजे रेनॉल्ड्स टोबैको, लोरिल्लार्ड टोबैको, कॉमनवेल्थ ब्रॉड्स,लिगेट ग्रुप और सेंटा फी नेचुरल टोबैको कंपनियों ने मंगलवार को ये मुक़दमा दायर किया.

आरजे रेनॉल्ड्स ब्रॉड्स में कैमल और विंटसन सिगरेट शामिल हैं

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन

इन पाँच कंपनियों ने 41 पन्नों के शिकायत पत्र में कहा है कि इन नई चेतावनियों से उपभोक्ता उनके उत्पादों को ख़रीदने से डरेंगे, हतोत्साहित होने के साथ-साथ अवसाद के शिकार भी होंगे.

सिगरेट बनाने वाली कंपनियों की ओर से वकील फ्लॉयड एब्राम्स ने कहा कि सरकार को ऐसी चेतावनी जारी करनी चाहिए जो स्पष्ट हो और विवादास्पद न हो, लेकिन सरकार धूम्रपान विरोधी अभियान के लिए सिगरेट के पैकटों का इस्तेमाल नहीं कर सकती.

उन्होंने कहा कि नई चेतावनी कंपनियों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मूल संवैधानिक अधिकार का हनन करती है.

2009 के धूम्रपान निषेध और तंबाकू नियंत्रण अधिनियम के तहत पैकटों के दोनों तरफ ये सचित्र चेतावनियाँ छापनी ज़रूरी हैं, ताकि लोग इससे बचने के लिए प्रोत्साहित हो सकें.

जो तस्वीरें छापी जानी हैं उनमें धूम्रपान से ख़राब हुए फेफड़े, दिल की बीमारी, धूम्रपान की वजह से हुई मौत और ख़राब दाँतों की तस्वीरें शामिल हैं.

शोध बताते हैं कि सिगरेट के पैकेट पर अभी तक जो चेतावनी लिखी जाती है, पैकेट पर छपी तस्वीर उससे ज़्यादा असरदार साबित हो सकती है. ग़ौरतलब है कि सिगरेट के पैकेट पर अभी यह चेतावनी लिखी जाती है कि 'धूम्रपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है.'

सिगरेट के पैकेट पर तस्वीर छापने का प्रयोग कुछ देशों में पहले ही शुरू हो चुका है.

संबंधित समाचार