गद्दाफ़ी अब भी सेना का संचालन कर रहे हैं: नैटो

  • 31 अगस्त 2011
लीबिया में गद्दाफ़ी विरोधी लड़ाके इमेज कॉपीरइट BBC World Service

लीबिया में जहाँ गद्दाफ़ी विरोधी लड़ाके कर्नल गद्दाफ़ी के गृह नगर सियर्ट की घेराबांदी करने में जुटे हैं, वहीं नैटो ने चेतावनी दी है कि ऐसा प्रतीत होता है कि गद्दाफ़ी अब भी अपनी सेनाओं का संचालन कर रहे हैं.

नैटो के प्रवक्ता कर्नल रोलां लेवोई ने कहा है कि गद्दाफ़ी की सेनाएँ बिखरी नहीं हुई हैं.

अंतरिम नेतृत्व को अंतरराष्ट्रीय सेनाओं की मौजूदगी मंजूर नहीं

सियर्ट के पास मौजूद एक बीबीसी संवाददाता ने कहा है कि गद्दाफ़ी विरोधी लड़ाके सियर्ट की घेराबंदी कर रहे हैं और लगता है कि दक्षिणी दिशा से भी हमला करने के प्रयास में हैं.

गद्दाफ़ी विरोधियों की राष्ट्रीय अंतरिम परिषद ने सियर्ट में गद्दाफ़ी समर्थक सेना को हथियार डालने के लिए शनिवार तक का समय दिया है. उधर गद्दाफ़ी के समर्थकों के एक प्रवक्ता ने कहा है कि सशस्त्र ठगों से किसी तरह का 'अल्टीमेटम' स्वीकार्य नहीं है.

फ़रवरी में ट्यूनिशिया और मिस्र में सरकार विरोधी प्रदर्शनों और सत्ता परिवर्तन के बाद लीबिया समेत अनेक लोगों ने सरकार विरोधी प्रदर्शन शुरु हुए थे. लीबिया में शस्त्र विद्रोह चला और अब लीबिया के अधिकतर क्षेत्र पर उनका कब्ज़ा है.

कहाँ है गद्दाफ़ी की दौलत?

कर्नल गद्दाफ़ी का कुछ अतापता नहीं है और उनके परिवार के कई सदस्यों ने पड़ोसी देश अलजीरिया में जाकर शरण ली है.

'शनिवार से पूरी जंग'

उधर बीबीसी संवाददाता पॉल वुड के अनुसार नोफ़िलिया, जहाँ पर गद्दाफ़ी विरोधियों ने कुछ ही दिन पहले कब्ज़ा किया था, वहाँ रमज़ान मनाया जा रहा है.

अल्जीरिया भागा गद्दाफ़ी का परिवार

लड़ाके छोट-छोटे बच्चों के साथ ईद के जश्न में शामिल हुए हैं.

पॉल वुड के अनुसार, "एक गद्दाफ़ी विद्रोही लड़ाने ने बताया कि उन्हें आदेश मिला है कि कुछ दिनों के लिए लड़ाई में तेज़ी न लाएँ. वे सियर्ट में मौजूद गद्दाफ़ी समर्थकों को बातचीत के लिए कुछ समय देने चाहते हैं."

उनका ये भी कहना है, "लेकिन इसके बाद वे पूरी तरह से धावा बोलना चाहते हैं और उन्होंने गद्दाफ़ी समर्थकों को चेतावनी दी है कि यदि शांति समझौता नहीं होता है तो वे लड़ाई के अंजाम को भगुतने के लिए तैयार रहें."

संबंधित समाचार