सेना से सेवानिवृत, सीआईए के नए प्रमुख

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी सैनिकों के कमांडर जनरल डेविड पेट्रियस अमरीकी सेना से सेवानिवृत्त हो गए हैं. वे इससे पहले इराक़ में भी कमांडर रह चुके हैं.

अब वे अमरीका में केंद्रीय खुफ़िया एजेंसी (सीआईए) के प्रमुख का पद संभालेंगे.

रिटायरमेंट समारोह में दिए भाषण में जनरल पेट्रियस ने कहा है कि अगर भविष्य में अमरीकी रक्षा बजट में कटौती हुई तो इससे सैनिकों की कार्यक्षमता पर असर पड़ेगा.

इस मौके पर अमरीकी ज्वाइंट चीफ़्स ऑफ़ स्टाफ़ अडमिरल माइक मलन ने कहा कि जनरल पेट्रियस ने युद्ध के दौरान कमान संभाले में स्वर्णिम मानक तय कर दिए हैं. उनकी छवि एक ऐसे विद्वान-जनरल की रही है जो लोगों के बीच लड़े जा रहे आधुनिक और जटल युद्धों को समझते हैं.

इराक़ में 2007 के बाद से अमरीकी अभियान को पटरी पर लाने का श्रेय उन्हीं को दिया जाता है. अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी रणनीति बनाने में भी उनका काफ़ी प्रभाव रहा है.

हालांकि बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इराक़ में जनरल पेट्रियस की रणनीति के असर पर बहस अब भी जारी है. इस बात को लेकर भी बहस चल रही है कि इराक़-अफ़ग़ानिस्तान में अमरीका और जनरल पेट्रियस की कोशिशें अंतत कितनी सफल हो पाएँगी.

उनके करियर की कई उपलब्धियाँ रही हैं. कहा जाता है कि एक बार प्रशिक्षण के दौरान एक सैनिक ने जनरल पेट्रियस की छाती पर ही गोली चला दी थी लेकिन वे बच गए.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि महत्वाकांक्षी समझे जाने वाले जनरल पेट्रियस शायद भविष्य में राष्ट्रपति पद के लिए भी लड़ सकते हैं. हालांकि उन्होंने इस बारे में कुछ नहीं कहा है.

सीआईए प्रमुख के नए रोल में उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना होगा ख़ासकर तब जब सीआईए सैन्य रोल में ज़्यादा दिख रही है.

संबंधित समाचार