9/11 बरसी: ख़तरे में अमरीका

9 /11
Image caption अमरीकी आंतरिक सुरक्षा विभाग के अनुसार न्यूयॉर्क और वाशिंग्टन दोनों खतरे में हैं

अमरीकी आतंरिक सुरक्षा विभाग के अनुसार अमरीका के न्यूयॉर्क और वाशिंगटन शहरों पर चरमपंथी हमले का ठोस ख़तरा मंडरा रहा है.

दुनिया को बदल देने वाले 9/11 के चरमपंथी हमलों की दसवीं बरसी के पहले अमरीका के आंतरिक सुरक्षा विभाग ने कहा है कि ख़तरा "एकदम साफ़ ठोस पर अपुष्ट है."

इसी सब के बीच अमरीकी समाचार चैनल एबीसी न्यूज़ में ख़बर आई है कि एक अमरीकी नागरिक सहित तीन लोग अगस्त के महीने में किसी बड़ी चरमपंथी घटना को अंजाम देने की नीयत से अमरीका में दाखिल हुए हैं.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चरमपंथ विरोधी प्रयासों को दोगुना करने की अपील की है.

अमरीकी राष्ट्रपति निवास व्हाइट हाउस के अधिकारियों का कहना है कि ओबामा जिन्होंने अमरीकी समयानुसार गुरूवार देर शाम अपने देश की संसद को संबोधित किया है उन्हें इस संबोधन के पहले इस ख़तरे के बारे में अवगत कराया गया है.

अमरीकी अधिकारियों के अनुसार बीती मई में पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन के ठिकाने पर मिले कागज़ात से ये साबित होता है कि ओसामा 9 /11 की बरसी पर किसी चरमपंथी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहा था.

रविवार को न्यूयॉर्क में 9 /11 की बरसी मानाने के लिए वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की जगह पर एक शांति सभा में क़रीब 3000 लोगों के मौजूद रहने का अनुमान है.

पुलिस की चिंताएं

समाचार एजेंसी एपी ने एक अमरीकी चरमपंथी विरोधी अधिकारी के हवाले से कहा है कि बुधवार को सूचना मिलने के बाद से अतिरिक्त एहतियात बरती जा रही है.

न्यूयॉर्क के मेयर माइकल ब्लूमबर्ग ने पत्रकारों को बताया है कि न्यूयॉर्क पुलिस विभाग, "अतिरिक्त संसाधनों का इस्तेमाल करेगा. इनमे से कई चीज़ें आपको दिखाई देंगी और कई नहीं दिखाई देंगी."

न्यूयॉर्क के पुलिस कमिश्नर रेमंड केली ने बीबीसी से कहा, " हम चिंतित हैं, खास तौर पर 9 /11 की बरसी के दिन को लेकर क्योंकि ओसामा के पास से ज़ब्त की गई चीज़ों से यह पता चलता है कि वो 9 /11 की बरसी को लेकर चर्चाएँ कर रहा था."

केली ने कहा, "इसमें कोई शक नहीं कि न्यूयॉर्क आज से दस बरस पहले जितना सुरक्षित था आज उससे कहीं ज़्यादा सुरक्षित है, लेकिन कोई गारंटी नहीं है. हमें नहीं पता कि हमें क्या नहीं मालूम है, ये एक ख़तरनाक दुनिया है. इस शहर को सुरक्षित रखने के लिए वो सब कर रहे हैं जो हमसे बन पड़ रहा है."

पुलिस अधिकारी मानते हैं ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बावजूद कुछ उसकी तरह के मंसूबे रखने वाले लोग 9 /11 की बरसी पर किसी घटना को अंजाम देने की कोशिश कर सकते हैं.

संबंधित समाचार