शिक्षक बने उपप्रधानमंत्री

  • 10 सितंबर 2011
इब्राहिम इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption इब्राहिम की नई नियुक्ति की सूचना से उनके सहयोगी चकित रह गए

उत्तरी लंदन के एक स्कूल में शिक्षक ने इस्तीफ़ा दे दिया है और इसकी वजह ये है कि उन्हें अनपेक्षित रूप से सोमालिया का उपप्रधानमंत्री चुन लिया गया है.

मोहम्मद इब्राहिम हार्लेसडन के न्यूमैन कथोलिक कॉलेज में पिछले दो वर्षों से सहायक शिक्षक के रूप काम कर रहे हैं.

इब्राहिम 64 वर्ष के हैं और उन्हें विदेश मंत्री का भी काम संभालना है.

स्कूल के प्रधानाचार्य रिचर्ड कोल्का का कहना है कि जब उन्हें ख़बर मिली तो वे 'आश्चर्यचकित' रह गए.

चकित करने वाली ख़बर

उनका कहना है कि जुलाई में जब स्कूल में गर्मियों की छुट्टियाँ हुईं तो उन्हें पता नहीं था कि इब्राहिम कहीं जाने वाले हैं.

प्रधानाचार्य कोल्का का कहना है, "पहली अगस्त को एक सहयोगी ने एसएमएस भेजकर मुझे इब्राहिम के नए काम के बारे में सूचना दी थी."

"इसके बाद इब्राहिम ने मुझे एक ईमेल भेजकर अनुमति मांगी थी कि अब वे स्कूल नहीं आ सकेंगे."

"आमतौर पर हम एक महीने का नोटिस देने को कहते हैं लेकिन इस बार मुझे उस नियम में ढील देनी पड़ी."

अपने ईमेल में इब्राहिम ने लिखा है, "ऐसे समय में जब मेरा देश सोमालिया सूखा और अकाल जैसी मानवीय त्रासदियाँ झेल रहा है, स्कूल की छुट्टियों के दौरान मुझे अनपेक्षित रुप से बुलावा आया है और कहा गया है कि मैं देश के उप प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री का काम संभालूँ."

उन्होंने लिखा है, "पिछले दिनों रोम में फ़ूड एंड एग्रीकल्चर (एफ़एओ) के सम्मेलन, इस्तांबुल में इस्लामिक सम्मेलन में और इथोपिया में अफ़्रीकी संघ के सम्मलेन में सोमालिया के लिए आर्थिक सहायता की अपील करने के लिए भाग लेने के बाद मैं इन समस्याओं से रुबरू हो चुका हूँ. "

उन्होंने कहा है कि न्यूमैन कैथोलिक कॉलेज हमेशा उनके दिल में रहेगा और वे अपने अच्छे साथियों को कभी भूल नहीं पाएँगे.

प्रधानाचार्य कोल्का ने इब्राहिम को बधाई दी है.

उल्लेखनीय है कि सोमालिया ने 1991 के बाद से कोई राष्ट्रीय सरकार का गठन नहीं हो सका है.

इस समय वहाँ संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में एक प्राधिकारण काम कर रहा है और इब्राहिम उसी का हिस्सा है.

ये प्राधिकरण राजधानी मोगादिशु में प्रभावी है बाक़ी जगह उनका प्रभाव कम ही है.

देश के दक्षिणी और मध्य भाग में ज़्यादातर अल-क़ायदा से जुड़े चरमपंथी संगठन अल-शबाब का क़ब्ज़ा है.

संबंधित समाचार