विद्रोहियों के नेता त्रिपोली पहुंचे

  • 11 सितंबर 2011
मुस्तफ़ा अब्दुल जलील इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मुस्तफ़ा अब्दुल जलील को ढेर सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा.

लीबिया में विद्रोहियों के संगठन नेशनल ट्रांज़िशनल काउंसिल के प्रमुख मुस्तफ़ा अब्दुल जलील पहली बार राजधानी त्रिपोली पहुंचे हैं.

अब्दुल जलील शनिवार को बेनग़ाज़ी से त्रिपोली पहुंचे. त्रिपोली पहुंचने पर हज़ारों लोगों ने सड़कों पर खड़े होकर उनका शानदार स्वागत किया.

विद्रोही सेना ने पिछले महीने राजधानी त्रिपोली से कर्नल गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों को खदेड़ दिया था और तभी से त्रिपोली पर विद्रोहियों का क़ब्ज़ा बना हुआ है.

लेकिन बीबीसी संवाददाता पीटर बाइल्स के अनुसार अब्दुल जलील को ढेर सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा.

अभी ये साफ़ नहीं है कि जलील स्थाई तौर पर त्रिपोली में रहेंगें लेकिन चूंकि नेशनल ट्रांज़िशनल काउंसिल या टीएनसी के अधिकारी लीबिया में स्थायित्व लाने का प्रयास कर रहें हैं ऐसे में अब्दुल जलील को ये दिखाना होगा कि वो एक प्रभावी राष्ट्रीय प्रशासन चला रहें हैं.

भव्य स्वागत

जैसे ही उनका हवाई जहाज़ त्रिपोली पहुंचा उनके समर्थकों ने उन्हें घेर लिया और कुछ समय के लिए तो वहां अव्यवस्था फैल गई थी.

उनका स्वागत करने वालों में राजनेता, औद्घोगिक घराने के लोग, और सामुदायिक नेता शामिल थे.

अब्दुल जलील का स्वागत करने हवाई अड्डा पहुंचे एक अध्यापक प्रोफ़ेसर वलीद तासीन ने कहा कि अब्दुल जलील के त्रिपोली पहुंचने से लोगों को नई तरह की आज़ादी का एहसास होगा.

अब्दुल जलील पूर्व न्याय मंत्री हैं लेकिन फ़रवरी 2011 में जब से लीबिया में कर्नल गद्दाफ़ी के ख़िलाफ़ विद्रोह के स्वर उभरे तबसे वो विद्रोहियों के प्रमुख चेहरे के तौर पर पहचाने जाने लगे हैं.

लीबिया की समस्या पर अंतरराष्ट्रीय जगत से बातचीत के लिए भी अब्दुल जलील ही मुख्य वार्ताकार रहें हैं.

कर्नल गद्दाफ़ी कहां हैं फ़िलहाल इसकी जानकारी नहीं है, इसीलिए अब्दुल जलील ने अभी तक कर्नल गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों के ख़िलाफ़ निर्णायक जीत की घोषणा नहीं की है.

आशा जताई जा रही है कि जब तक वहां के सैन्य हालात पूरे तौर पर बेहतर नहीं होते तब तक अब्दुल जलील अंतरिम सरकार की घोषणा नही करेंगे.

संबंधित समाचार