समलैंगिक शादियों को मिला समर्थन

  • 17 सितंबर 2011
समलैंगिक जोड़ा इमेज कॉपीरइट AP
Image caption साल 2005 में समलैंगिक जोड़ो को क़ानूनी मान्यता दी गई थी

ब्रिटेन की सरकार का कहना है कि वह समलैंगिक संबंधों को मान्यता देने वाले क़ानून की अवधि बढ़ाना चाहती है और एक ऐसा क़ानून लाना चाहती है जिसके तहत समलैंगिक जोड़े शादी भी कर सके.

साल 2005 में समलैंगिक जोड़ो की मांग को मानते हुए, क़ानून में परिवर्तन किए जाने के बाद ऐसे संबंधों को क़ानूनी मान्यता दी गई थी लेकिन इन जोड़ो को शादी का अधिकार नहीं दिया गया था.

इन समलैंगिक जोड़ियों को 'सिविल पार्टनरशिप' का दर्जा दिया गया था जिसके तहत दोनों व्यक्तियों को पति-पत्नी जैसे ही अधिकार दिए गए थे.

इस क़ानून की अवधि बढ़ाकर सरकार की योजना एक ऐसा क़ानून लाने की है जिसके तहत समलैंगिक शादी कर सके.

धार्मिक रीति रिवाज़

लेकिन ये समलैगिक जोड़े शादी धार्मिक, रीति रिवाज़ से नहीं कर पाएगे. ये जोड़े केवल सिविल सेरिमॉनी यानी कोर्ट के ज़रिए ही प्रणय-सुत्र में बंध पाएंगे.

सरकार इस मुद्दे को अगले साल जनता के सामने चर्चा के लिए रखने का भी मन बना रही है.

समलैंगिक शादी के प्रस्ताव का सरकार के गठबंधन में शामिल एक छोटे दल लिब्ररल डेमोक्रेटस समर्थन कर रहे है.

इसके अलावा इस क़ानून का कुछ कंज़र्वेटिव पार्टी के मंत्री भी समर्थन कर रहे हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार