इतिहास के पन्नों में - 19 सितंबर

मेक्सिको सिटी में आज 19 सितंबर, 1985, को आए भूकंप में तीन राज्य तबाह हो गए थे और करीब 170 लोग मारे गए थे. वर्ष 1952 को आज ही के दिन अमरीका ने प्रसिद्ध फ़िल्म कलाकार चार्ली चैपलिन के हॉलीवुड आने पर रोक लगा दी थी.

मेक्सिको भूकंप

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption 1985 में आए भीषण भूकंप में करीब 10,000 मारे गए थे और 30,000 से ज़्यादा घायल हुए थे

आज ही के दिन वर्ष 1985 में आए भीषण भूकंप से मेक्सिको सिटी में भारी तबाही हुई थी. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भूकंप में करीब 10,000 लोग मारे गए थे और 30,000 से ज़्यादा घायल हुए थे. बचाव कार्य के दौरान आश्चर्यजनक तौर पर 58 नवजात शिशुओं को मैटरनिटी वार्ड से भूकंप के तीन दिन बाद जीवित निकाला गया.

मेक्सिको सिटी में आया यह भूकंप देश के इतिहास में सबसे विनाशकारी भूकंप था. शहर का एक बड़ा हिस्सा तबाह हो गया था. करीब 6,000 इमारतें तबाह हो गई थीं और ढाई लाख घर तबाह हो गए थे.

मेक्सिको सिटी में भूकंप आने की संभावना बहुत ज़्यादा है क्योंकि ये शहर एक पुरानी झील पर स्थित है जिससे भूकंप के झटकों में तेज़ी से बढ़ोत्तरी होती है.

वहाँ इमारतों को बनाते वक्त उनमें कई बदलाव किए जाते हैं जिससे वो भूकंप की तीव्रता को बर्दाश्त कर सकें. मेक्सिको में कई सार्वजनिक संस्थानों में भूकंप से निपटने के लिए नियमित अभ्यास किए जाते हैं.

वर्ष 1985 के बाद मेक्सिको में दो दूसरे बड़े भूकंप आए. वर्ष 1995 में पैसिफ़िक किनारे पर स्थित कोलिमा स्टेट में आए भूकंप में करीब 50 लोग मारे गए थे जबिक वर्ष 2003 में मेक्सिको सिटी के पश्चिम में आए भूकंप में 29 लोगों की जान चली गई थी.

चार्ली चैपलिन को बाहर का रास्ता

Image caption चार्ली चैपलिन जब ब्रिटेन पहुँचे तो उन्हें इस बात का तुरंत एहसास हुआ कि वो अब अमरीका वापस नहीं जा पाएँगे

आज ही के दिन वर्ष 1952 में विश्व प्रसिद्ध हॉलीवुड स्टार चार्ली चैपलिन को अमरीका वापस आने से रोक दिया गया.

चार्ली चैपलिन जब ब्रिटेन पहुँचे तो उन्हें इस बात का तुरंत एहसास हुआ कि वो अब अमरीका वापस नहीं जा पाएँगे.

चैपलिन अमरीका जाने के ख़िलाफ़ हो गए थे. उन्होंने कहा था कि अगर प्रभु यीशु भी अमरीका के राष्ट्रपति बन जाएँ, वो तब भी वापस नहीं जाएँगे.

लंदन में अपनी फ़िल्म लाईमलाईट के बेहद कामयाब प्रीमियर के बाद चैपलिन स्विट्ज़रलैंड के वेवे में बस गए जहाँ वर्ष 1977 में उनकी मौत हो गई.

चैपलिन लगातार फ़िल्में बनाते रहे, लेकिन अमरीका में लोग उनके इतने ख़िलाफ़ हो गए थे कि उनकी पहली यूरोपियन फ़िल्म ए किंग इन न्यूयॉर्क अमरीका में 16 वर्षों तक प्रदर्शित नहीं हुई.

हालाँकि वो 1972 को वापस अमरीका पहुँचे जहाँ उन्हें विशेष एकादमी पुरस्कार दिया गया. तीन वर्ष बाद उन्हें ब्रिटेन की रानी ने नाईटहुड से नवाज़ा.

उनकी मृत्यु के बाद चैपलिन का शरीर उनकी कब्र से चुरा लिया गया और 11 हफ़्तों तो गायब रहा.

मई 1978 में आखिरकार उसका पता चला.

संबंधित समाचार