जापान में हथियार निर्माता कंपनी पर साइबर हमले

मित्सुबीशी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मित्सुबीशी हेवी इंडसट्रीज़ मिसाइलों के अलावा लड़ाकू युद्धपोत और पनडुब्बियों का निर्माण भी करती है.

जापान की शीर्ष हथियार निर्माता कंपनी ने पुष्टि की है कि उनकी कंपनी पर ऐसे साइबर हमले हुए, जिनसे मिसाइलों, पनडुब्बियों और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों से संबंधित आंकड़ों की जानकारी हासिल की जा सके.

मित्सुबिशी हैवी इंडस्ट्रीज़ ने कहा है कि पिछले महीने उनकी कंपनी में कम से कम 80 सर्वरों और कंप्यूटरों में वायरस पाए गए हैं.

हालांकि कंपनी ने इस बात पर भी ज़ोर दिया है कि उन्हें अभी तक इस बात के कोई सुराग नहीं मिले हैं, जिनसे पता चले कि संवेदनशील जानकारी कंपनी से बाहर गई.

इस बीच जापान के रक्षा मंत्रालय ने इस मामले की पूरी छानबीन के लिए अनुरोध किया है.

मंत्रालय के अधिकारी इस बात से नाराज़ बताए गए हैं कि इस साइबर हमले की जानकारी उन्हें स्थानीय मीडिया के ज़रिए पता चली.

सावधानी की ज़रुरत

जापान में सभी सरकारी ठेकेदारों के लिए यह अनिवार्य है कि वे किसी भी संवेदनशील जानकारी की ख़बर लीक होने पर मंत्रियों को अवगत कराएं.

रायटर्स न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक़ रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया, "ये रक्षा मंत्रालय के ऊपर है कि वे फैसला करें कि जानकारी कितनी अहम है. मित्सुबिशी कंपनी के लिए तय करना संभव नहीं है. एक रिपोर्ट तैयार की जानी चाहिए." माना जा रहा है कि इस ख़तरनाक वायरस ने नागासाकी स्थित बंदरगाह को भी निशाना बनाया है.

इस बंदरगाह में लड़ाकू युद्धपोतों का निर्माण किया जाता है.

इस बीच सैन्य हवाई जहाज़ों का निर्माण करने वाली एक दूसरी हथियार निर्माता कंपनी ने कहा है कि उस पर भी साइबर हमले किए गए.

पिछले महीने जापान के रक्षा मंत्रालय ने एक श्वेत पत्र जारी करके कहा था कि लगातार बढ़ने वाले साइबर हमलों के ख़िलाफ़ ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है.

संबंधित समाचार