सीरिया में 2700 लोगों की मौत : संयुक्त राष्ट्र

Image caption सीरियाई सुरक्षा बल सत्ता विरोधी प्रदर्शनों को बल पूर्वक ख़त्म करने की कोशिश कर रहे हैं

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का कहना है कि सीरिया में हालात तेज़ी से बिगड़ते जा रहे हैं.

संगठन की उप उच्चायुक्त क्यूंग व्हा कांग ने कहा है कि छह महीने पहले शुरू हुए सत्ता विरोधी प्रदर्शनों के बाद तमाम अंतरराष्ट्रीय दबावों के बावजूद सीरिया में ख़ूनी हिंसा बढ़ती जा रही है.

उन्होंने कहा कि सीरियाई सेना की कार्रवाई में अब तक 2700 लोगों की मौत हो गई है, सरकार ने सुधार के वादों की बार-बार बल प्रयोग कर अवहेलना की है और ये बेहद ज़रूरी हो गया है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय तुरंत कोई प्रभावी कार्रवाई करे.

उधर, न्यूयॉर्क में फ़्रांस के विदेश मंत्री अलां जुप्पे ने कहा कि सीरिया के नेताओं को मानवता के विरूद्ध किए गए अपराध का जवाब देना होगा.

हिंसा

सत्ता विरोधी प्रदर्शनकारियों के मुताबिक़ सीरिया के होम्स प्रांत में सुरक्षा बलों ने राष्ट्रपति बशर अल असद का साथ छोड़ने वालों के ख़िलाफ़ छापे की कार्रवाई कर पांच लोगों की हत्या कर दी है.

सीरिया में मानवाधिकार के लिए काम करने वाली संस्था का कहना है कि टैंकों ने सड़क संपर्क काट दिया है और हाउला इलाक़े में जमकर गोलीबारी हुई है.

संस्था के मुताबिक़ सरकारी फ़ौज ने होम्स में प्रदर्शनकारियों पर फ़ायरिंग की है और कई शहरों में लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

ये गिरफ़्तारियां देश के दूसरे बड़े शहर अलेप्पो, दीर अल ज़ॉर, लकाटिया और बनियास में की गई हैं.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि सीरिया के शासक बशर अल असद के शासन का विरोध कर रहे लोगों ख़िलाफ़ की गई कार्रवाई में अब तक 2700 लोग मारे गए हैं.

संबंधित समाचार