इसराइल-फलस्तीनी पक्षों से बातचीत की अपील

  • 24 सितंबर 2011
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अब्बास के भाषण के दौरान लोगों ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया

फ़लस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान कि मून के समक्ष औपचारिक सदस्यता का आवेदन रख दिया है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए अब्बास ने कहा कि वो चाहते हैं कि इसराइल के साथ फ़लस्तीनी संघर्ष में संयुक्त राष्ट्र बड़ी भूमिका अदा करे. हालांकि अब्बास के तुरंत बाद इसराइली प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने कहा कि वो शांति के पक्षधर हैं और बातचीत के लिए पूरी तरह तैयार हैं.

दोनों नेताओं के भाषणों के बाद मध्य पूर्व में शांति बहाल करने की कोशिश करने वाले क्वार्टेट ने इसराइल और फ़लस्तीनी पक्ष से एक महीने में सीधी बातचीत करने की अपील की है.

अमरीका, रुस, यूरोपीय संघ और संयुक्त राष्ट्र दोनों पक्षों के बीच शांति वार्ताएं करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इन चारों समूहोंने कहा है कि वार्ताएं महीने भर में शुरु हों और एक वर्ष में समाप्त हो जाएं.

चारों पक्षों की बातचीत के बाद यूरोप के विदेश मामलों की प्रमुख कैथरीन एस्टन ने बताया कि उनके प्रतिनिधि दोनों पक्षों से बातचीत करेंगे और दोनों को एक साथ लाने की कोशिश करेंगे.

एस्टन ने उम्मीद जताई कि दोनों पक्ष सकारात्मक रवैया अपनाएंगे.

अब्बास का भाषण

अब्बास का कहना था कि इसराइल के रवैये के कारण पूर्व में शांति के सारे अंतरराष्ट्रीय प्रयास असफल रहे हैं और इसे देखते हुए संयुक्त राष्ट्र की भूमिका और बड़ी होनी चाहिए.

अब्बास का कहना था कि इसराइल ने वेस्ट बैंक में शिविर बनाना जारी रखा है जो भविष्य के फलस्तीनी राष्ट्र के लिए ख़तरनाक है.

अपने भाषण में अब्बास ने साफ किया कि वो चाहते हैं कि फ़लस्तीनी राष्ट्र की राजधानी पूर्वी यरुशलम में हो और इस राष्ट्र में वेस्ट बैंक को भी शामिल किया जाए.

उनका कहना था कि फ़लस्तीनी जनता इसराइली कब्ज़े का शांतिपूर्ण विरोध जारी रखेगी.

अब्बास के अनुसार फ़लस्तीनी नेतृत्व शांति का विरोध नहीं कररता है और इसराइल से बातचीत शुरु करने की अपील कररता है.

हालांकि अमरीका ने फ़लस्तीनी नेता महमूद अब्बास से कहा था कि वो संयुक्त राष्ट्र की पूर्ण सदस्यता के लिए आवेदन न करे क्योंकि वो ऐसे किसी भी आवेदन पर वीटो कर देगा.

अमरीका के आग्रह के बावजूद अब्बास ने न केवल सदस्यता का आवेदन किया बल्कि महासभा में एक भावुक भाषण भी दिया.

अब्बास के भाषण के दौरान बार बार तालियां बजी और नेताओं ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया.

एक वक्ता के रुप में अब्बास को बहुत उम्दा नहीं माना जाता लेकिन महासभा में उनके भाषण ने सबको बाँध कर रख दिया.

अब्बास का कहना था कि वो 1967 में हुए युद्ध से पहले की फ़लस्तीनी सीमा के आधार पर नए राष्ट्र के निर्माण के लिए तैयार हैं.

उनके भाषण को फ़लस्तीनी इलाक़े वेस्ट बैंक के रामल्लाह में भी बड़ी संख्या में लोग सुन रहे थे.

इलाक़े के लोगों के हाथों में बैनर, फ़लस्तीनी झंडे थे जहां अब्बास के भाषण का प्रसारण एक बड़ी स्क्रीन पर हो रहा था.

हालांकि गज़ा में जहां अब्बास के विरोधी हमास का नियंत्रण है वहां अब्बास के लिए किसी तरह का खुला समर्थन नहीं दिखा.

नेतान्याहू का भाषण

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption नेतान्याहू ने कहा कि वो संयुक्त राष्ट्र की इमारत में ही अब्बास से बातचीत करने को तैयार हैं.

इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतान्याहू ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा है कि इसराइल मध्य पूर्व में सभी देशों से दोस्ती चाहता है.

फलस्तीनी नेता अब्बास के बाद महासभा को संबोधित करते हुए नेतान्याहू ने कहा कि वो मध्य पूर्व ही नहीं बल्कि फ़लस्तीनी लोगों के साथ भी शांति चाहते हैं जो लंबे समय तक चले.

नेतान्याहू ने कहा कि इसराइल को संयुक्त राष्ट्र में चुनकर आलोचना का शिकार बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के तहत इसराइलय में शांति संभव नहीं है बल्कि दोनों पक्षों के बीच सीधी बातचीत से ही संभव है.

नेतान्याहू ने कहा कि वो फलस्तीनी नेता से तुरंत संयुक्त राष्ट्र की इमारत में ही बातचीत करने को तैयार हैं.

उन्होंने साफ किया कि दोनों पक्षों के बीच स्थायी शांति तभी हो सकेगी जब सुरक्षा के मुद्दे पर कोई गंभीर बात हो न कि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के आधार पर रज़ामंदी बनाने की कोशिश हो.

उनका कहना था कि फ़लस्तीनी नेतृत्व इसराइल को यहूदी राष्ट्र के रुप में मान्याता दे. नेतान्याहू ने शिविर बनाते रहने के इसराइल के फ़ैसले का समर्थन किया और कहा कि अगर वेस्ट बैंक को हमलों का आधार बनाया जाएगा तो इसराइल के पास बचाव का कोई साधन नहीं रहेगा.

उनका कहना था कि इसराइल ने शांति स्थापना के लिए पूर्व में गज़ा से शिविर हटाने और गज़ा से हटने का जो फैसला किया उसका फायदा हमास जैसे चरमपंथी संगठनों ने उठाया है.

संबंधित समाचार