पेंटागन पर हमले की साज़िश में गिरफ़्तारी

  • 29 सितंबर 2011
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के न्याय मंत्रालय का कहना है कि रिमोट संचालित विस्फोटकों से भरे एक विमान को रक्षा मंत्रालय पेंटागन और राजधानी वाशिंगटन डीसी पर गिराने का षडयंत्र रचने के अभियोग में एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया गया है.

मैसाच्यूसेट के अटार्नी कारमन ऑर्टिज़ ने बताया कि 26 साल के संदिग्ध रिज़वान फ़िरदौस को एफ़बीआई एजेंटों ने गिरफ़्तार किया है. इन एजेंटों ने ख़ुद को अल क़ायदा का सदस्य बताते हुए इस व्यक्ति से संपर्क बढ़ाया और उस पर लगातार नज़र रखी.

साज़िश का पता लगाने के लिए इन एजेंटों ने रिज़वान को सी-4 विस्फोटक के अलावा एक रिमोट संचालित जहाज़ भी उपलब्ध कराया.

एफबीआई एजेंटों ने इस व्यक्ति को बोस्टन में हिरासत में लिया.

साज़िश

अधिकारियों का कहना है संदिग्ध रिज़वान फिरदौस अमरीकी नागरिक है और नार्थइस्टर्न यूनिवर्सिटी से भौतिक विज्ञान में स्नातक है. रिज़वान फिरदौस पर चरमपंथी संगठन अल क़ायदा को सामान मुहैया कराने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया गया है.

अधिकारियों ने जानकारी दी कि रिज़वान फिरदौस ने एफबीआई एजेंटों को ऐसे मोबाइल फ़ोन मुहैया कराए थे जिनमें तकनीकि बदलाव किए गए थे.

रिज़वान ने ये सोच कर फ़ोन दिए थे कि इनका इस्तेमाल विदेश में अमरीकी सेना पर हमले के लिए किया जाएगा.

अमरीका के रक्षा मंत्रालय पेंटागन पर 11 सितंबर 2001 पर हमला हो चुका है. इस हमले में अपहरणकर्ताओं ने एक यात्री जहाज़ को पेंटागन से टकरा दिया था.

अगर रिज़वान फिरदौस पर ये आरोप साबित हो जाते हैं तो उन्हें विदेशी चरमपंथी संगठन को सामान मुहैया कराने के लिए 15 साल तक की सज़ा हो सकती है.

साथ ही राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय को ध्वस्त करने का प्रयास करने के लिए 20 साल की सज़ा हो सकती है.

संबंधित समाचार