दलाई लामा को वीज़ा ना मिलने पर ग़ुस्से में डेसमंड टूटू

दलाई लामा के समर्थन में प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सोमवार को दलाई लामा के समर्थन में केप टाउन में संसद के बाहर प्रदर्शन हुआ.

आर्चबिशप डेसंड टूटू ने तिब्बती आध्यात्मिक गुरू दलाई लामा की दक्षिण अफ़्रीका की यात्रा वीज़ा ना मिलने की संभावना के चलते रद्द किए जाने पर ग़ुस्से का इज़हार किया है.

आर्चबिशप टूटू ने दलाई लामा को अपने 80वें जन्मदिन के समारोह पर दक्षिण अफ़्रीका बुलाया था.

उधर दक्षिण अफ़्रीकी सरकार ने कहा है कि तकनीकी दिक्कतों के कारण वीज़ा देने में देरी हो रही है.

लेकिन आर्चबिशप टूटू ने कहा है कि सरकार का पक्ष यक़ीन करने लायक नहीं है.

उन्होंने कहा कि वे आगामी चुनावों में सत्तारूढ़ अफ़्रीकन नेशनल कांग्रेस की हार के लिए प्रार्थना करेंगे.

आलोचकों का कहना है कि दक्षिण अफ़्रीका ने चीन के दबाव में दलाई लामा की यात्रा में बाधा पहुंचाई है.

लेकिन दक्षिण अफ़्रीका ने सफ़ाई दी है कि वीज़ा मिलने में हुई देरी की वजह चीन का दबाव हरगिज़ नहीं है.

पिछले दो सालों में ये दूसरी बार दलाई लामा की दक्षिण अफ़्रीका यात्रा संभव नहीं हो सकी है.

कार्यक्रम रद्द

दलाई लामा के कार्यालय का कहना है कि वीज़ा मिलने में हुई देर की वजह से वे अपनी यात्रा का कार्यक्रम रद्द कर रहे हैं.

उन्हें शुक्रवार को इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उन्हें आमंत्रित किया गया था.

केपटाउन में बीबीसी संवाददाता कैरन एलन का कहना है कि दलाई लामा के समर्थकों ने दक्षिण अफ़्रीकी संसद के सामने प्रदर्शन किया है. उनका कहना है कि दक्षिण अफ़्रीका ने दलाई लामा को वीज़ा न देकर अपनी संप्रभुता के साथ समझौता किया है.

चीन दलाई लामा को एक ख़तरनाक अलगाववादी नेता मानता है और आरोप लगाता है कि वे तिब्बत को चीन से अलग करना चाहते हैं.

हालांकि दलाई लामा बार-बार कह चुके हैं कि उनका उद्देश्य तिब्बत को स्वायत्तता दिलाना है और वे आज़ादी की मांग नहीं कर रहे हैं.

संबंधित समाचार