इतिहास के पन्नों में 8 अक्तूबर

  • 8 अक्तूबर 2011

इतिहास के पन्नों को पलट कर देखें तो आज ही के दिन हॉलीवुड अभिनेता आर्नोल्ड श्वाजनेगर अमरीका में कैलिफोर्निया राज्य के गवर्नर चुने गए थे. इसी दिन साल 2005 दक्षिण एशिया में आये एक भीषण भूकंप ने हज़ारों जानें ले लीं थीं.

2003 : अर्नोल्ड श्वाजनेगर कैलिफोर्निया के गवर्नर चुने गए

इमेज कॉपीरइट KOBALCOLLECTIONDELAURENTIIS
Image caption अर्नोल्ड श्वाजनेगर 48 .7 मत मिले जो कि उनके निकटस्थ उम्मीदवार से 16 फ़ीसदी ज़्यादा थे.

हॉलीवुड के नामचीन अदाकारों में से एक टर्मिनेटर जैसी हिट फिल्मों के नायक अर्नोल्ड श्वाजनेगर ने कैलिफोर्निया के गवर्नर को उनका कार्यकाल पूरा होने के तीन साल पहले हुए एक चुनाव में हरा दिया.

उस समय तक अमरीका के इतिहास में यह पहली बार हुआ था कि किसी राज्यपाल को उसके पद से मध्यावधि में हटा दिया गया.

एक मतदान में राज्य के 55.4 प्रतिशत लोगों ने उस समय कार्यरत गवर्नर को हटाने के पक्ष में मतदान किया वहीं 44.6 प्रतिशत लोगों ने गवर्नर को पद पर बनाए रखने के पक्ष में मतदान किया.

नए गवर्नर के चुनाव में आर्नोल्ड श्वाज़नेगर 48.7 मत मिले जो कि उनके निकटस्थ उम्मीदवार से 16 फ़ीसदी ज़्यादा थे.

दरअसल कैलिफोर्निया राज्य उस समय कर्ज़ के बोझ तले दबा हुआ था और श्वाजनेगर के पूर्ववर्ती करों को बढ़ाने के कारण बहुत ही अलोकप्रिय हो गए थे. श्वाज़नेगर ने गवर्नर का चुनाव जीतने के तमाम बढ़े हुए करों को वापस ले लिया.

राज्यपाल के तौर पर श्वाज़नेगर जो बजट लाए उसमें ना कर बढ़ाए गए ना सरकारी खर्चे कम किए गए बस खर्चों के लिए और अधिक क़र्ज़ ले लिए गए.

विशेषज्ञों ने श्वाज़नेगर के इस कदम की बहुत निंदा की और कहा कि यह कदम आने वाली पीढ़ियों को बहुत ही महँगा पड़ेगा.

2005 : दक्षिण एशिया में भीषण भूकंप

इमेज कॉपीरइट AFPGetty Images
Image caption इस भूकंप में 73000 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई और लगभग 30 लाख से ज़्यादा की आबादी बेघर हो गई

साल 2005 में इसी दिन उत्तरी पाकिस्तान और कश्मीर के इलाकों को एक बहुत ही शक्तिशाली भूकंप ने हिला कर रख दिया. यह भूकंप रिक्टर स्केल पर 7.9 के पैमाने का था. इस भूकंप का केंद्र पकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से 80 किलोमीटर उत्तर पूर्व की तरफ़ था.

यूँ तो इस भूकंप ने भारत प्रशासित कश्मीर में बहुत नुकसान हुआ लेकिन इसने पाकिस्तान के उत्तरी इलाकों में भयानक तबाही मचाई.

इस भूकंप में 73000 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई और लगभग 30 लाख से ज़्यादा की आबादी बेघर हो गई.

दक्षिण एशिया में भूकंप के इतिहास में यह सबसे भीषण भूकंप था. इसके बाद सर्दियों के आने के साथ ही भूकंप प्रभावित लोगों की मौत सर्दी और बीमारियों से होने लगी.

संबंधित समाचार