मैं माइकल जैक्सन की मदद करना चाहता था: डॉक्टर मरे

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डॉक्टर मरे पर जैक्सन पर ग़ैर इरादतन हत्या के आरोप में मुक़दमा चल रहा है

लॉस एंजिलस की एक अदालत में पॉप स्टार माइकल जैक्सन की मौत के मामले पर सुनवाई के दौरान उनके आख़िरी लम्हों के बारे में कुछ नई जानकारियां सामने आई हैं.

जैक्सन के मित्र और उनके डॉक्टर रहे कोरनार्ड मरे पर जैक्सन की हत्या के संबंध में मुकदमा चल रहा है और एक रिकॉर्डिंग के ज़रिए जैक्सन की मौत से पहले के घटनाक्रम का विस्तृत ब्यौरा सामने आया है.

यह रिकॉर्डिंग माइकल जैक्सन की मौत के बाद डॉक्टर मरे के साथ पुलिस अधिकारियों की पूछताछ पर आधारित है. इस बातचीत में उन्होंने माइकल जैक्सन को दवाई देकर सुलाने संबंधी कई ब्यौरे दिए हैं.

डॉक्टर मरे ने बताया है कि उस रात माइकल जैक्सन उनसे लगातार नींद न आने की शिकायत करते रहे.

जैक्सन को सुलाने के लिए मरे ने उन्हें नींद के कई इंजेक्शन दिए लेकिन सारी कोशिशें बेकार रहीं और जैक्सन जागते रहे.

डॉक्टर मरे के मुताबिक वो बार-बार यह शिकायत कर रहे थे कि अगर उन्हें नींद नहीं आई तो वो कॉन्सर्ट में बेहतर नहीं गा पाएंगे. उन्हें इस बात की बेहद चिंता थी कि उन्हें लंदन में होने वाला अपना कॉन्सर्ट स्थगित करना पड़ेगा.

इमेज कॉपीरइट AP

डॉक्टर मरे ने बताया कि इसके बाद माइकल जैक्सन ने ‘मिल्क’ की मांग की जो उनके शब्दों में बेहोशी की एक तेज़ दवा का सूचक था.

इसके बाद डॉक्टर मरे ने उन्हें प्रोपोफ़ोल नाम की दवाई का इंजेक्शन दिया जिसके बाद जैक्सन को नींद आ गई थी.

माना जाता है कि इस दवा से ही माइकल जैक्सन की मौत हुई.

डॉक्टर ने कहा कि इसके बाद वो कमरे से बाहर निकल गए और जब वो लौटे तो माइकल जैक्सन ने सांस लेना बंद कर दिया था.

उन्होंने अपने ऊपर लगे ग़ैर-इरादतन हत्या के आरोप का खंडन किया है.

अपनी सफ़ाई में उन्होंने कहा कि मैं माइकल जैक्सन को लगातार नींद की दवाओं से उबारने की कोशिश कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ‘मैं माइकल जैक्सन से बेहद प्यार करता था और वो मेरे दोस्त थे. मैं उनकी मदद करना चाहता था. ‘

संबंधित समाचार