सिर्त पर एनटीसी का नए सिरे से हमला

सिर्त में हमला इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सिर्त गद्दाफ़ी समर्थकों का आख़िरी गढ़ है

लीबिया में अंतरिम प्रशासन की सेनाएँ सिर्त पर पूरी तरह से कब्ज़ा करने के लिए संघर्ष कर रही हैं.

वहाँ सुबह से ही तोप के गोलों की आवाज़े सुनाई पड़ रही हैं.

गद्दाफ़ी के लड़ाकों ने अपने आपको कॉन्फ़्रेंस सेंटर तक सीमित कर दिया है जो अब संघर्ष का मुख्य केंद्र बना हुआ है.

इससे पहले ख़बरें आ चुकी हैं कि सिर्त के अधिकांश हिस्से पर अंतरिम प्रशासन (एनटीसी) का कब्ज़ा हो चुका है.

सिर्त कर्नल गद्दाफ़ी का जन्म स्थान है और यही वो आख़िरी शहर है जहाँ कर्नल गद्दाफ़ी की सेनाएँ बहुत मज़बूत स्थिति में हैं.

हमला

सिर्त में सुबह नए सिरे से बमबारी से हुई है, जहाँ एनटीसी की सेनाओं को गद्दाफ़ी की सेनाओं से तगड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है.

शुक्रवार को एनटीसी के लड़ाकों ने गद्दाफ़ी की सेना को सड़क-दर-सड़क पीछे धकेलते हुए अधिकांश हिस्सों पर कब्ज़ा कर लिया था.

डॉक्टरों का कहना है कि इन हमलों में कम से कम 12 लोगों की मौतें हुई हैं और 190 से अधिक घायल हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सिर्त के लोगों को एनटीसी ने शहर छोड़ देने की चेतावनी दी थी

सिर्त के बाहर से बीबीसी के संवाददाता का कहना है कि ऐसा लगता है कि एक हारी हुई लड़ाई के लिए गद्दाफ़ी के सैनिक अभूतपूर्व ताक़त लगा रहे हैं.

इससे पहले भी एनटीसी ने एक बार सिर्त पर कब्ज़े की कोशिश की थी लेकिन गद्दाफ़ी समर्थकों ने इसे विफल कर दिया था.

जब एनटीसी ने राजधानी त्रिपोली पर कब्ज़ा किया था तो कर्नल गद्दाफ़ी वहाँ से चले गए थे लेकिन वे इस समय कहाँ हैं ये जानकारी नहीं है.

उनके परिवार के ज़्यादातर लोग भी या तो कहीं छिपे हुए हैं या फिर देश छोड़कर जा चुके हैं.

नागरिक फँसे

इस बीच सिर्त के सुरक्षा चौकियों पर शहर से बाहर जाने वाले नागरिकों की कतारें लगी हुई हैं.

एनटीसी ने सिर्त पर हमला करने से पहले नागरिकों को मौक़ा दिया था कि वे चाहें तो शहर छोड़कर जा सकते हैं.

इस बीच हज़ारों नागरिक पलायन कर चुके हैं लेकिन अब भी बहुत से लोग शहर के भीतर ही मौजूद हैं क्योंकि गद्दाफ़ी समर्थकों ने उन्हें ये धमकी देकर डरा दिया है कि अगर वे बाहर निकले तो गद्दाफ़ी विरोधी उनको मार देंगे.

एनटीसी के सूचना प्रसारण मंत्री मोहम्मद शम्मन का कहना है कि सिर्त में नागरिकों को गद्दाफ़ी समर्थकों ने बंधक बनाकर रखा हुआ है.

संबंधित समाचार