टोक्यो में मौजूद परमाणु विकिरण पर चिंता

  • 13 अक्तूबर 2011
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption फुकुशिमा हादसे के चलते पैदा हुए खतरों पर लोगों में चिंताएं बढ़ चलीं हैं

जापान की राजधानी टोक्यो में कई जगहों पर परमाणु विकिरण की अत्याधिक मात्रा पाई गई है. इस नई जानकारी से फ़ुकुशिमा के ध्वस्त परमाणु संयंत्र को लेकर चिंताएं बढ़ गईं हैं.

टोक्यो में एक जगह पर परमाणु विकिरण की मात्रा उस जगह से ज़्यादा पाई गई है, जो फ़ुकुशिमा के बंद पड़े संयंत्र के नज़दीक है. टोक्यो में यह जगह फ़ुकुशिमा से क़रीब 230 किलोमीटर दूर है.

टोक्यो में बीबीसी संवादाता रोलैंड ब्यूरेक के अनुसार फ़ुकुशिमा के हादसे के बाद से देश में परमाणु विकिरण की मात्रा मापने वाले यंत्रों की बिक्री बढ़ गई है.

टोक्यो में कई स्थानों पर अत्याधिक विकिरण की जानकारी भी सरकार को आम नागरिकों से ही मिली है.

इसी तरह के कुछ चौकन्ने नागरिकों ने ही टोक्यो में एक स्कूल और नर्सरी के नज़दीक फुटपाथ पर परमाणु विकिरण की बढ़ी हुई मात्रा की खोज की. जांच करने पार पाया गया कि इस जगह पर विकिरण की मात्रा फुकुशिमा से सटे हुए इलाकों से ज़्यादा है.

सलाह

हालाँकि स्कूल के पास की जगह की महज़ धोने भर से विकिरण की मात्रा का कम होना पाया गया है पर बच्चों को सलाह दी गई है कि वो उस फुटपाथ का इस्तेमाल ना करें.

इसी तरह टोक्यो से दूर योकोहामा जगह पर एक रिहायशी इमारत की छत पर जिस तरह का विकिरण पाया गया उससे ल्यूकेमिया का खतरा पैदा होता है.

इसी तरह से टोक्यो के नज़दीक चीबा नाम की जगह पर लोगों ने अधिकारियों को चेतावनी दी कि एक स्थानीय पार्क में विकिरण की मात्रा ज़्यादा हो सकती है.

'फ़ुकुशिमा कारण नहीं'

जापान के विज्ञान मंत्री ने दावा किया है कि टोक्यो में मिला परमाणु विकिरण फुकुशिमा के कारण नहीं है और इसकी मात्रा भी इतनी नहीं है कि लोगों के स्वास्थ्य को ख़तरा हो.

टोक्यो के जिस इलाके में स्कूल के नज़दीक फुटपाथ पर परमाणु विकिरण पाया गया है वह के एक ज़िम्मेदार सरकारी अधिकारी ने ने केंद्रीय विज्ञान मंत्री की तरह ही बात की है. मिचिओ हिरासवा ने समाचार एजेंसी ब्लूमबर्ग को बताया कि बढ़ा हुआ विकिरण केवल एक बहुत ही छोटे से हिस्से में पाया गया है और सरकार लोगों की चिंताओं का समाधान करने की पूरी कोशिश में लगी है.

अधिकारियों का यह भी दावा है कि टोक्यो में विकिरण फुकुशिमा के कारण नहीं बल्कि पास बने एक घर के तहखाने में रखी कुछ बोतलों का प्रभाव है. इन बोतलों में भरी चीज़ की जांच की जा रही है.

इस तरह की खोजों के बाद देश में फुकुशिमा के हादसे के चलते पैदा हुए खतरों पर लोगों के बीच में चिंताएं बढ़ चलीं हैं.

जापान के प्रदूषित होते वातावरण के चलते बाहुत सारे आम नागरिकों ने फुकुशिमा के आसपास बनी चीजों को खरीदना भी छोड़ दिया है साथ ही देश के कई हिस्सों में होटल व बाज़ार खली हैं क्योंकि पर्यटकों ने उन इलाकों में जाना बंद कर दिया है.

इस सबके बीच जापान में फ़ुकुशिमा प्रांत के क़रीब 3 .60 लाख बच्चों का स्वास्थ्य परिक्षण शुरू हो गया है. यह परिक्षण उनके पूरे जीवन काल तक जारी रहेगा.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार