यमन में हज़ारों प्रदर्शनकारियों पर फ़ायरिंग, 12 मारे गए

  • 16 अक्तूबर 2011
अली अब्दुल्लाह सालेह
Image caption आठ अक्तूबर को अली सालेह ने कहा था कि वे आने वाले दिनों में सत्ता छोड़ देंगे

यमन की राजधानी सना में सुरक्षा बलों ने हज़ारों सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाई है और कम से कम 12 लोग मारे गए हैं.

यमन में पिछले आठ महोने से रुक-रुक कर सरकार विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं और प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह के इस्तीफ़े की मांग कर रहे हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सुरक्षा बलों ने सना के केंद्र की ओर मार्च कर रहे प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाई हैं. प्रदर्शनकारियों ने उस इलाक़े को 'चेंज स्क्वेयर' यानी परिवर्तन चौराहे का नाम दिया है.

सुरक्षा बलों ने इन लोगों पर आँसू गैसं छोड़ी और पानी का छिड़काव भी किया है.

पर्यवेक्षकों का मानना है कि प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति सालेह पर इस्तीफ़ा देने के लिए दबाव बढ़ा रहे हैं.

आने वाले दिनों में सत्ता छोड़ दूँगा

हाल में सऊदी अरब से इलाज कराकर लौटे राष्ट्रपति सालेह ने आठ अक्तूबर को कहा था कि वो आने वाले दिनों में सत्ता छोड़ देंगे लेकिन फ़िलहाल उनके सत्ता छोड़ने के कोई आसार नज़र नहीं आ रहे हैं.

जून में उनके कार्यालय पर हुई गोलीबारी में सालेह घायल हो गए थे और इलाज करवाने सऊदी अरब चले गए थे.

शनिवार को उनके अधिकारियों ने घोषणा की थी कि उन्होंने दक्षिण में एक प्रमुख अल क़ायदा नेता को मार दिया है.

सालेह और उनके समर्थकों का तर्क है कि यमन में अल क़ायदा और इस्लामी कट्टरपंथियों के ख़िलाफ़ केवल सालेह ही कारगर कार्रवाई कर सकते हैं.

संबंधित समाचार