इतिहास के पन्नो से - 20 अक्तूबर

इतिहास के पन्ने पलटें तो 20 अक्तूबर का दिन कई वजहों से याद किया जाएगा. 20 अक्तूबर 1962 को चीन ने भारत के ऊपर एक सुनियोजित हमला बोल दिया था. तिब्बतियों के धार्मिक नेता दलाई लामा 20 अक्तूबर 1973 को पहली बार ब्रिटेन पहुंचे.

1962: चीन ने भारत पर हमला बोला

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption 1962 की लड़ाई के वक्त जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रधानमंत्री थे.

कई दिन तक गोलीबारी की छुटपुट घटनाओं के बाद 20 अक्तूबर 1962 को चीन ने भारत के ऊपर एक सुनियोजित हमला बोल दिया था.

1950 के दशक तक भारत और चीन के बीच अच्छे संबंध थे. फिर वर्ष 1957 में चीन ने लद्दाख़ के रास्ते अक्साई चिन सड़क के ज़रिए चीन और तिब्बत को जोड़ा और इसके बाद लद्दाख़ के कई इलाकों पर कब्ज़ा कर लिया.

मार्च 1959 में तिब्बत के धार्मिक नेता दलाई लामा ने भारत में शरण ली. इसके बाद भारत और चीन की सीमाओं पर सैन्य तैनाती बढ़ गई.

20 अक्तूबर को शुरू हुई ये लड़ाई दक्षिणी तिब्बत और अक्साई चिन के इलाकों में लड़ी गई.

चीन इस लड़ाई में बहुत तैयारी से उतरा और चीनी सेना में क़रीब 80,000 सैनिक थे. जबकि भारतीय सेना सिर्फ 10-12,000 सैनिक ही जुटा पाई.

लड़ाई क़रीब 14,000 फीट की ऊंचाई पर कड़कती ठंड में लड़ी गई. एक महीने बाद ही, 21 नवंबर 1962 को चीन ने अपनी जीत का ऐलान कर दिया था.

1973: तिब्बती नेता दलाई लामा पहली बार ब्रिटेन गए

तिब्बतियों के धार्मिक नेता दलाई लामा 20 अक्तूबर 1973 को पहली बार ब्रिटेन पहुंचे.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption तिब्बती धार्मिक नेता दलाई लामा अब भी भारत में रहते हैं.

ब्रिटेन पहुंचकर उन्होंने कहा कि ये दौरा राजनीतिक नहीं है और वे उन लोगों से मिलना चाहते हैं जो तिब्बतियों के मुद्दों से इत्तफाक़ रखते हैं.

ब्रिटेन जाने से पहले वो रोम के वेटिकन में पोप पॉल पंचम से पहली बार मिले थे और वहीं से उन्होंने यूरोप का दौरा शुरू किया.

ब्रिटेन के अलावा वो स्विट्ज़रलैंड, हॉलैंड, बेल्जियम, आयरलैंड, नॉर्वे, स्वीडन, डेनमार्क, पश्चिमी जर्मनी और ऑस्ट्रिया भी गए.

1959 में जब दलाई लामा ने तिब्बत छोड़ा था तब उनके साथ क़रीब एक लाख तिब्बती भी भारत आए और वे अब तक वापस नहीं गए हैं.

तिब्बत चीन के कब्ज़े में है और दलाई लामा को तिब्बत की आज़ादी के लिए शांतिप्रिय ढंग से प्रयास करने के लिए वर्ष 1989 में शांति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

संबंधित समाचार