सोशल मीडिया पर गद्दाफ़ी की ख़बर का असर

लीबिया के घटनाक्रम पर सोशल मीडिया पर लगातार टिप्पणियां आ रही हैं. पर्सियन फेसबुक पर कियान हैदरी लिखते हैं - "गद्दाफी के अंत के बाद दूसरे तानाशाहों के लिए भी उलटी गिनती शुरु हो गई है."

जबकि एहसान एहरारी लिखते हैं कि - "लीबिया का भविष्य इस्लामी रिपब्लिक के रूप में है.."

वहीं अरबी फेसबुक पर अल्जीरिया से अब्दुल माजिद लिखते हैं - "गद्धाफी शासन का खात्मा पूरा हो गया है.. अब यही उम्मीद है कि लीबिया के लोग एक साथ मिलकर रहेंगें और आनेवाली मुश्किलों का सामना करेंगें."

ट्रिपोली से अली का कहना है कि लीबिया लोगों के दिलों में गद्दाफी के लिए कोई सम्मान नहीं था, ये लीबिया के इतिहास में नया अध्याय है.

फेसबुक पर ही अब्दुल्ला लिखते हैं कि - "अगर ये ख़बर सच है तो हम लीबिया के लोगों को मुबारकबाद देते हैं."

जबकि मेहदी लिख रहे हैं - "गद्दाफ़ी का पकड़ा जाना या मारा जाना एक लंबे और भयानक गृह-युद्ध की शुरुआत है. लीबिया की एकता बचाने वाले गद्दाफी इकलौते व्यक्ति थे. अब साम्राज्यवादी गिद्ध लीबिया की लाश को नोचेंगें."

लिटिल ओल्ड मी उम्मीद कर रहे हैं - "इसका नतीजा गद्दाफी के खिलाफ लड़ रहे विभिन्न गुटों के बीच गृह युद्ध न हो. देश का एक बना रहना अच्छी बात होगी लेकिन मुझे डर है कि अंततोगत्वा देश का विभाजन होगा. सचमुच के देश की सीमा-रेखा सीधी लकीर नहीं होती जिसे साम्राज्यवादियों ने खींचा है."