इतिहास के पन्नों में 21 अक्तूबर

इतिहास के पन्नों को पलटें तो पाएगें कि साल 1966 में अक्तूबर 21 ही के दिन इंग्लैंड के वेल्स क्षेत्र में एक कोयले की खदान के पास कोयले में निकले कचरे का एक पहाड़ धसकने के कारण 144 की मौत हो गई थी.

1966 : कई बच्चे कोयले के कचरे के नीचे दबे

Image caption इस हादसे में 144 लोग मारे गए जिनमे से ज्दायातर बच्चे थे

ब्रिटेन के वेल्स क्षेत्र में एबरफैन के नज़दीक की कोयला खदानों के पास खदानों से निकले कोयले के एक पहाड़ के धसकने से 144 लोग मारे गए जिनमें से ज्यादातर बच्चे थे.

दरअसल यह पहाड़ धसका और और कुछ ही क्षणों में पास ही बने एक स्कूल को अपनी चपेट में ले लिया. यह घटना स्थानीय समय के अनुसार क़रीब सुबह के 9.30 बजे घटी जब स्कूल में छोटे छोटे बच्चे अपनी कक्षाओं में जमा होना शुरू हुए थे. कुछ बच्चे स्कूल के बाहर मैदान में खेल रहे थे. एकदम राहत कार्य शुरू नहीं हो पाया क्योंकि घटनास्थल घने कोहरे की चादर में लिपटा हुआ था. पर इसी घने कोहरे के कारण पास के एक गाँव के 50 बच्चे स्कूल समय पर नहीं पहुँच पाए और उनकी जान बच गई.

इस घटना में बच गए एक दस साल के बच्चे ने बाद में बताया कि उन लोगों ने अचानक एक आवाज़ सुनी और उनके चारों ओर टेबले कुर्सियां पलटने लगे बच्चे जोर जोर से चीखने लगे.

बचाव कर्मियों को बाद में एक कक्षा के अंदर एक शिक्षक की बांहों में पांच बच्चे मिले उन्हें देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो शिक्षक उन बच्चों को बचाने की कोशिश कर रहा हो.

1952 : कीनिया के नेता केन्याटा गिरफ़्तार

Image caption जून 1963 में केन्याटा कीनिया की पहली स्वशासित सरकार के प्रधानमंत्री बने.

इसी दिन साल 1952 में जाने माने अफ्रीकी राष्ट्रवादी नेता जोमो केन्याटा को कीनिया पर काबिज़ ब्रितानी सरकार ने गिरफ़्तार कर लिया.

केन्याटा के ऊपर आरोप था कि वो लोगों को भड़का रहे हैं. केन्याटा आज़ादी के पक्षधर स्थानीय समूह माऊ माऊ के महत्वपूर्ण नेता थे.

जोमो केन्याटा ने अपने ऊपर लगाए गए तमाम आरोपों का खंडन किया लेकिन केन्याटा को अदालत ने सात साल की सश्रम कारावास की ख़बर सुनाई. इतिहासकार इस मुक़दमे को स्थानीय सरकार द्वारा गलत ढंग से चलाया गया मुकदमा बताते हैं.

साल 1959 में केन्याटा की सज़ा पूरी हुई और उनके ऊपर लगे तमाम बंधन साल 1961 के अगस्त महीने में उठा लिए गए. अक्तूबर के महीने में उसी साल केन्याटा केन्यन अफ्रीकन नेशनल यूनियन के अध्यक्ष बन गए.

जून 1963 में केन्याटा कीनिया की पहली स्वशासित सरकार के प्रधानमंत्री बने.

संबंधित समाचार