गद्दाफ़ी को अज्ञात स्थान पर दफ़नाने की योजना

  • 21 अक्तूबर 2011
कर्नल गद्दाफ़ी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कर्नल गद्दाफ़ी का शव अब मिसराता के एक घर में रखा गया है

लीबिया में अधिकारी अगले कुछ घंटों के भीतर कर्नल गद्दाफ़ी को किसी अज्ञात स्थान पर गुपचुप तरीके से दफ़नाने की तैयारी कर रहे हैं.

त्रिपोली में बीबीसी संवाददाता के अनुसार अधिकारी शुक्रवार की सुबह तक ये तय नहीं कर पा रहे थे कि गद्दाफ़ी को कैसे और कहां दफ़नाया जाए.

इससे पहले लीबिया में अधिकारियों का कहना है कि पूर्व शासक कर्नल मुअम्मर गद्दाफ़ी सिर्त में उनके वफ़ादारों और अंतरिम सरकार के सैनिकों के बीच हुई गोलीबारी में मारे गए.

कार्यवाहक प्रधानमंत्री महमूद जिब्रील ने कहा कि अंतरिम सरकार के सैनिकों और गद्दाफ़ी के वफ़ादारों के बीच गोलीबारी हुई जिसमें उन्हें सिर में गोली लगी.

उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि कर्नल गद्दाफ़ी को ज़िंदा पकड़ा गया था मगर अस्पताल पहुँचने से पहले उनकी मौत हो गई.

नैटो हमले के संचालक अगले कुछ घंटों में बैठक करके लीबिया में बम हमले समाप्त करने की घोषणा कर सकते हैं.

नैटो महासचिवन ऐंडर्स फ़ॉग रैसमूसन ने कहा कि कर्नल गद्दाफ़ी की मौत के साथ अब वो मौक़ा आ गया है.

उन्होंने कहा, "कर्नल गद्दाफ़ी का 42 साल के डर का शासन आख़िर समाप्त हो गया है. मैं सभी लीबियाई लोगों से अपील करता हूँ कि वे आपसी मतभेद भुलाकर एक उज्ज्वल भविष्य के लिए मिलकर काम करें."

राष्ट्रीय अंतरिम परिषद या एनटीसी में नंबर दो की हैसियत रखने वाले जिब्रील ने त्रिपोली में एक संवाददाता सम्मेलन में कर्नल गद्दाफ़ी की मौत की पुष्टि की.

उन्होंने कहा, "हम इस मौक़े का काफ़ी लंबे समय से इंतज़ार कर रहे थे. मुअम्मर गद्दाफ़ी मारे गए हैं."

वीडियो

इस बीच गद्दाफ़ी को पकड़े जाने का जो वीडियो सामने आया है उससे पता चलता है कि गद्दाफ़ी को सड़कों पर घसीटा गया था.

अल-जज़ीरा टेलीविज़न पर प्रसारित वीडियो फ़ुटेज से ये पता नहीं चल पा रहा है कि उस समय वह ज़िंदा थे या उनकी मौत हो चुकी थी.

बाद में जिब्रील ने संवाददाताओं को बताया कि 'फ़ोरेंसिक जाँच' में इस बात की पुष्टि हो गई है कि कर्नल गद्दाफ़ी की पकड़े जाने के बाद ले जाए जाते समय गोलियों की चोट से मौत हो गई.

उन्होंने रिपोर्टों के हवाले से कहा, "जब कार जा रही थी तो क्रांतिकारियों और गद्दाफ़ी के सैनिकों के बीच गोलीबारी हुई जिसमें एक गोली उनके सिर में लगी."

कार्यवाहक प्रधानमंत्री के अनुसार डॉक्टर ये नहीं बता सके कि गोली क्रांतिकारियों की ओर से लगी या गद्दाफ़ी के किसी सैनिक की गोली ने ही उनकी जान ली.

इससे पहले एनटीसी के कुछ सैनिकों ने कर्नल की मौत का अलग क़िस्सा बयान किया था जहाँ उनका कहना था कि जब वह भागने की कोशिश कर रहे थे तो उन्हें पकड़ने वालों ने ही उन्हें गोली मार दी.

एनटीसी के एक सैनिक ने बीबीसी को बताया कि उन्हें कर्नल गद्दाफ़ी एक गड्ढे में छिपे मिले और पूर्व शासक ने उनसे गोली नहीं मारने की याचना की.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बताया जा रहा है कि गद्दाफ़ी इसी पाइप में छिपे हुए थे

उस लड़ाकू ने एक सोने की पिस्तौल भी दिखाई जो उसके अनुसार उसने कर्नल गद्दाफ़ी से ली थी.

बेटों की ख़बर

अरब देशों के टेलिविज़न चैनलों ने कुछ तस्वीरें दिखाई हैं जिनमें सैनिक दो बड़े जल निकासी पाइपों के इर्द-गिर्द खड़े हैं और संवाददाताओं के अनुसार कर्नल गद्दाफ़ी वहीं से मिले थे.

इस बीच एक अन्य शव की पहचान गद्दाफ़ी के बेटे मुतस्सिम के तौर पर हुई है.

रॉयटर समाचार एजेंसी के एक संवाददाता ने बताया कि मुतस्सिम का शव मिसराता शहर के एक घर में ज़मीन पर एक कंबल पर रखा गया था और स्थानीय लोगों के बीच उस शव की तस्वीर अपने मोबाइल फ़ोन पर रखने की आपा-धापी मची थी.

कर्नल गद्दाफ़ी का शव भी मिसराता ले जाया गया है.

उधर उनके दूसरे बेटे सैफ़ अल-इस्लाम को लेकर विरोधाभासी ख़बरें मिल रही हैं.

कार्यवाहक न्याय मंत्री मोहम्मद अल-अलागी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि सैफ़ पकड़े गए थे और पैर में चोट के चलते उन्हें अस्पताल ले जाया गया.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बाद में आई तस्वीरों में गद्दाफ़ी का शव दिखाया गया

मगर एक अन्य एनटीसी अधिकारी के अनुसार अभी तक सैफ़ का कोई पता नहीं है.

कर्नल गद्दाफ़ी की मौत का पहला सबूत एक वीडियो के रूप में सामने आया जो पहले तो लड़ाकू एक दूसरे को दिखा रहे थे और उसके बाद अंतरराष्ट्रीय समाचार चैनलों पर वो दिखाया गया.

पहली तस्वीरों में एक ख़ून से सना चेहरा दिख रहा था जिसे कर्नल गद्दाफ़ी का चेहरा बताया गया.

उसके बाद वीडियो सामने आया जिसमें दिखाया गया कि कर्नल को ज़िंदा पकड़ने के बाद एक ट्रक में पीछे डाल दिया गया.

मगर इनमें से किसी भी वीडियो के सही होने की पुष्टि नहीं हो सकी है.

इस ख़बर के बाद लीबिया में जगह जगह लोग सड़कों पर निकल आए और उन्होंने कर्नल गद्दाफ़ी की मौत की ख़बर का जश्न मनाया.

संबंधित समाचार