गद्दाफ़ी की मौत की जाँच के लिए दबाव बढ़ा

  • 22 अक्तूबर 2011
कर्नल गद्दाफ़ी
Image caption कर्नल गद्दाफ़ी के आख़िरी क्षणों का नया वीडियो सामने आया है

कर्नल गद्दाफ़ी के आख़िरी क्षणों का एक नया वीडियो सामने आने से लीबिया की अंतरिम सरकार पर पारदर्शिता बरतने के लिए दबाव बढ़ गया है. सवाल इस पर उठ रहे हैं कि आख़िरकार कर्नल गद्दाफ़ी कैसे मारे गए.

इस ताज़ा वीडियो में देखा जा सकता है कि घायल और ख़ून से लथपथ कर्नल गद्दाफ़ी को बंदूक की नोक पर घसीटा जा रहा है.

इस वीडियो में कई तरह की आवाज़ें भी सुनी जा सकती है, जिसमें ये बहस हो रही है कि क्या गद्दाफ़ी को मार देना चाहिए.

अमरीका ने कहा है कि अंतरिम सरकार को हर चीज़ खुले और पारदर्शी तरीक़े से करनी चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त नवी पिल्लई ने कहा है कि इसकी जाँच होनी चाहिए कि कर्नल गद्दाफ़ी की मौत कैसे हुई. उनके प्रवक्ता रूपर्ट कोलविले ने बीबीसी को बताया कि गद्दाफ़ी की मौत ग़ैर क़ानूनी हो सकती है.

उन्होंने कहा, "दो वीडियो सामने आए हैं. एक उन्हें ज़िंदा दिखा रहा है तो एक मृत. इन दो मोबाइल वीडियो के बीच क्या हुआ, इसके चार या पाँच विवरण सामने आ रहे हैं. लेकिन इससे बड़ी चिंता सामने आ रही है."

लीबिया की अंतरिम सरकार इस बात से इनकार कर रही है कि कर्नल गद्दाफ़ी की गोली मार कर हत्या की गई. सरकार का दावा है कि समर्थकों और सरकारी लड़ाकों के बीच हुई गोलीबारी में गद्दाफ़ी को गोली लगी और फिर उनकी मौत हो गई.

दक्षिण अफ़्रीका के राष्ट्रपति जैकब ज़ूमा ने कहा है कि कर्नल गद्दाफ़ी को मारा नहीं जाना चाहिए था. उन्हें पकड़कर मुक़दमा चलाया जाना चाहिए था.

मतभेद

लीबिया में अधिकारियों के बीच मतभेद के कारण अभी तक कर्नल गद्दाफ़ी को दफ़नाया नहीं जा सका है.

इस्लामी परंपरा के मुताबिक़ मौत के बाद दफ़नाने की प्रक्रिया जल्द से जल्द की जाती है. लेकिन लीबिया के तेल मंत्री का कहना है कि गद्दाफ़ी के शव को कुछ और दिनों तक रखा जा सकता है.

अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कर्नल गद्दाफ़ी को सिर्त में दफ़नाया जाएगा या मिस्राता में या फिर कहीं और.

कर्नल गद्दाफ़ी का शव इस समय मिस्राता में एक कोल्ड स्टोरेज में रखा गया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार