गद्दाफ़ी का राजनीतिक सफ़रनामा - तस्वीरों में

 शुक्रवार, 21 अक्तूबर, 2011 को 21:12 IST तक के समाचार

गद्दाफी का राजनीतिक सफ़रनामा

  • मुअम्मर गद्दाफी

    1 सितंबर, 1969

    मुअम्मर गद्दाफी अपने युवा काल में अरब नेता गमल अब्दुल नासिर के प्रशंसक थे. एक सिपाही होने के नाते उन्होने लीबिया को राजशाही से छुड़ाने के लिए सबसे पहली योजना बनाई थी.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    शुरूआती दिन (1970 का दौर): इस तस्वीर में सबसे दाहिनें ओर दिख रहे कर्नल गद्दाफी ने ग्रीन बुक नाम का खुद का राजनीतिक फ़लसफ़ा बनाया. उन्होने मध्य पूर्व अरब में 1973-74 में हुए तेल संकट के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. हालाकि संपूर्ण अफ्रीका के हितों का प्रतिनिधित्व करने की उनकी इच्छा पूरी नही हो पाई थी.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    वॉन फ्लेचर (अप्रैल 1984):

    लीबिया के लंदन दूतावास के बाहर गद्दाफी के ख़िलाफ हो रहे प्रदर्शन के दौरान एक युवा पुलिसकर्मी वॉन फ्लेचर को दूतावास में गोली मार दी गई थी. यह एक अंतरराष्ट्रीय घटना बन गई थी.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    अमरीकी हमलें (15 अप्रैल, 1986): आईरिश रिपब्लिकन आर्मी और पैलेसटाइन लिबरेशन ऑर्गनाइज़ेशन जैसे चरमपंथियों के कर्नल गद्दाफी के साथ होने के कारण अमरीका के त्तकालीन राष्ट्रपति रोनल्ड रीगन ने गद्दाफी को "मैड डॉग" कहा था.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    लॉकरबाय (21 दिसम्बर, 1988):

    स्कॉटलैड के शहर लॉकरबाय पर पैन-ऐम फ्लाइट 103 के हवा में विस्फोट हो जाने के बाद अमरीका और लीबिया के बाच विवाद काफी बढ़ गया था.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    सहयोग (1999-2003):

    लॉकरबाय बम धमाका के मामले में दो लीबियाई नागरिकों को साल 1999 में स्कॉटलैड के एक अदालत में पेश किया गया था.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    लीबिया की वापसी (मार्च 2004):

    पाबंदियों के हटने के बाद त्रिपोली ने अंतरराष्ट्रीय राजनीति में दोबारा वापसी की. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर और अनय कई विश्वस्तरीय नेता लीबिया के दौरे पर आए.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    सबसे लंबा भाषण (23 सितंबर, 2009):

    संयुक्त राष्ट्र के महासम्मेंलन में अपने पहले भाषण में कर्नल गद्दाफी ने दिए गए समय से करीब एक घंटा ज्यादा, 96 मिनटों तक बोलते रहे.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    विरोध-प्रदर्शन का दौर (फरवरी 2011):

    पड़ोसी देश ट्यूनीशिया और मिस्र में हो रहे जनांदोलन और मानव अधिकारों के लिए लड़ रहे एक व्यक्ति की गिरफ़्तारी के बाद लीबिया में भी सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन शुरू हो गए.

  • लीबिया

    नैटो हमलें (19 - 20 मार्च, 2011):

    अपने ही देश में प्रदर्शनकारियों से जूझते गद्दाफी सरकार के ख़िलाफ़ नैटो ने ''लीबिया के नागरिकों की जान बचाने के लिए'' हवाई हमलें शुरू कर दिए.

  • मुअम्मर गद्दाफी का पुतला

    त्रिपोली में सरकार गिरी (23 अगस्त, 2011):

    लीबिया में प्रदर्शन शुरू होने के छह महीने बाद विद्रोहियों ने त्रिपेली पर कबज़ा कर लिया.

  • मुअम्मर गद्दाफी

    सिर्त में गद्दाफी की मौत (20 अक्तूबर, 2011):कर्नल गद्दाफी को

    विद्रोहियो ने सिर्त में पकड़ लिया और उनकी मौत हो गई. लीबिया की अंतरिम सरकार के अधिकारियों ने कहा है कि गद्दाफी गोलीबारी में घायल हुए थे और बाद में उनकी मौत हो गई.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.