दक्षिणी सुडान में विद्रोहियों का हमला, 75 की मौत

दक्षिणी सुडान इमेज कॉपीरइट trevor
Image caption गृह युद्ध के दौरान लड़ाई कर रहे कई गुटों ने दक्षिणी सुडान के निर्माण के बाद भी हथियार नहीं डाले हैं.

युनिटि सुबे में दक्षिणी सुडान लिब्रेशन आर्मी के विद्रोहियों के ज़रिये किए गए एक हमले में कम से कम 75 लोगों की मौत हो गई है.

सेना के प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा है कि मारे गए लोगों में 15 आम शहरी थे.

युनिटि सुबा तेल के भंडार के लिए जाना जाता है.

दक्षिणी सुडान का निर्माण दशकों तक जारी रहे गृह युद्ध के बाद इसी साल जुलाई माह में हुआ है.

पहले वो सुडान का हिस्सा हुआ करता था. कहा जा रहा है कि स्वतंत्रता के बाद हुआ ये सबसे बड़ा ख़ूनी हमला है.

नए देश के गठन के बाद कुछ विद्रोही लड़ाकों ने सरकार के साथ शांति संधि कर ली थी लेकिन कई ने अभी भी लड़ाई जारी रखी है.

दावा

हालांकि सेना (दक्षिणी सुडान लिब्रेशन आर्मी) का कहना है कि सुबह हुए इस हमले में 700 से अधिक सैनिकों की मौत हो गई है. लेकिन विद्रोही दावा कर रहे हैं कि मयोम शहर पूरी तरह से उनके क़ब्ज़े में है.

स्थानीय प्रशासन और अधिकारी इस दावे को ख़ारिज कर रहे हैं.

विद्रोहियों ने संयुक्त राष्ट्र के स्टाफ़ और राहत कर्मियों को सुबा छोड़ देने की चेतावनी दी है. ये चेतावनी उन्होंने बाद में वारप सुबे के लिए भी जारी कर दी.

विद्रोहियों का कहना है कि उनकी लड़ाऊ भ्रष्टाचार, कम विकास और दक्षिणी सुडान लिब्रेशन आर्मी के वर्चस्व के ख़िलाफ़ है.

दक्षिणी सुडान लिब्रेशन आर्मी अब देश की सरकार में है.

बीबीसी संवाददाता जेम्स कोपनल का कहना है कि युनिटि सुबे पर किया गया हमला बहुत माएने रखता है.

नए देश की 98 प्रतिशत आमदनी यहीं मौजूद तेल भंडारों पर निर्भर है.

संबंधित समाचार