'ओसामा कार्रवाई के पहले डेढ़ मिनट में मारे गए'

  • 5 नवंबर 2011
लादेन का घर इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption अल क़ायदा प्रमुख़ ओसामा बिन लादेन को अमरीकी सैनिकों ने 2 मई को पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मार दिया था.

पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन की मौत के विवरण पर आने वाली एक नई किताब में दावा किया गया है कि ओसामा जिस परिसर में थे, वहाँ कार्रवाई शुरु होने के पहले डेढ़ मिनट के भीतर ही ओसामा मारे गए थे.

इस किताब के लेखक चक फ़ैरर ओसामा बिन लादेन को मारने वाली अमरीका की नेवी सील्स टीम सिक्स के एक पूर्व अधिकारी हैं और उन्होंने इस कार्रवाई को अंजाम देने वाले कई लोगों को इंटरव्यू करने का दावा किया है.

उनके इन दावों से ओसामा बिन लादेन की मौत के बारे में विवाद खड़ा हो गया है क्योंकि उनके दावे अमरीकी सरकार के आधिकारिक विवरण से अलग हैं.

ब्रिटेन के अंग्रेज़ी अख़बार द टेलीग्राफ़ में चक फ़ेरर के बयान के आधारित पर छपी एक ख़बर में ये दावा किया गया है. द टेलीग्राफ़ के अनुसार अमरीकी अधिकारियों ने इन दावों को 'सरासर ग़लत' बताया है.

'छोटी पत्नी के पैर में गोली लगी'

द टेलीग्राफ़ के अनुसार चक फ़ैरर का कहना है, "ओसामा बिन लादेन कार्रवाई शुरु होने के 90 सेकेंड्स के भीतर ही मार दिए गए थे, ना कि किसी लंबी मुठभेड़ के बाद. लादेन पर चार राउंड गोलियां चलाई गईं थी.''

अख़बार के मुताबिक़ चक फ़ैरर ने नेवी सील टीम सिक्स के ऐबटाबाद में उतरने और एक ब्लैक हॉक हेलिकॉप्टर के क्रैश होने के बारे में अमरीकी सरकार की ओर से जारी किए गए ब्यौरे को भी चुनौती दी है.

द टेलीग्राफ़ में प्रकाशित ख़बर के अनुसार - ''सील्स टीम सिक्स के सैनिक ऐबटाबाद में लादेन के घर की छत पर हेलिकॉप्टर से उतरे और फ़िर घर के अंदर घुसे, ना कि ज़मीन के रास्ते से. ओसामा बिन लादेन के मरने के कुछ मिनट बाद ही हेलिकॉप्टर अनियंत्रित होकर एक दीवार से जा टकराया."

किताब के लेख़क चक फ़ैरर का मानना है कि अगर सैनिक सीढियों के रास्ते ओसामा बिन लादेन तक पहुँचते, जैसा कि सरकारी तौर पर बताया गया है, तो फ़िर लादेन को अपना बचाव करने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता.

द टेलीग्राफ़ के मुताबिक़ फ़ैरर ने यह भी कहा है कि अल क़ायदा प्रमुख़ ओसामा बिन लादेन को बचाने की कोशिश में लादेन की सबसे छोटी पत्नी अमल बिन लादेन के पैर में गोली लग गई थी.

चक फ़ैरर की यह किताब इस महीने के अंत तक रिलीज़ होनी है.

संबंधित समाचार