सीरिया पर बढ़ा दबाव, अरब देशों से सीरिया की अपील

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सीरिया में लगातार सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी हैं.

सीरिया ने अरब देशों से अपील की है कि सीरिया के संकट को देखते हुए अरब देशों की आपात बैठक बुलाई जाए.

सीरिया ने यह अपील ऐसे समय में की है जब अरब देश लगातार सीरिया पर दबाव डाल रहे हैं कि वो लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों पर हिंसा का प्रयोग बंद करे.

अरब लीग ने एक दिन पहले ही सीरिया को लीग से निलंबित कर दिया है क्योंकि सीरिया ने अरब लीग की उस योजना को मानने से इंकार कर दिया है जिसके तहत सीरिया को बल प्रयोग रोकना था और रिहाईशी इलाक़ों से सेना वापस बुलानी थई.

अब सीरिया ने अरब लीग से अपील की है कि वो एक प्रतिनिधिमंडल भेजे जो ये देखे कि योजना लागू की गई है या नहीं.

इससे पहले मिस्र ने सीरिया से कहा था कि वो योजना को मानने की अपनी प्रतिबद्धता पूरी करे ताकि लीग से सीरिया का निलंबन वापस किया जा सके.

उधर सीरिया में तुर्की के दूतावास पर शनिवार रात को हुए हमले के बाद तुर्की ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सीरिया से कहा है कि वो राजदूतों की सुरक्षा सुनिश्चित करे. शनिवार को तुर्की के अलावा कतर और सऊदी अरब के दूतावासों पर भी हमला हुआ था.

अरब लीग के प्रमुख नबील अल अरबी ने कहा है कि संगठन ये देख रहा है कि सीरिया में आम लोगों की जान बचाने के लिए क्या किया जा सकता है.

अरब लीग द्वारा सीरिया के निलंबन के बाद सीरिया सरकार के समर्थकों ने विरोध जताया है.

इस बीच फ्रांस ने भी सीरिया सरकार की कड़ी आलोचना की है. फ्रांस ने पेरिस में सीरिया के राजदूत को बुलाकर इस बात के लिए जवाब तलब किया है कि दमिश्क में उसके दूतावास पर हमला क्यों किया गया.

तुर्की ने सीरिया से अपने सारे गैर राजनयिक कर्मचारियों और राजनयिक स्टाफ के परिवारजनों को वापस बुला लिया है.

शनिवार को सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद के समर्थकों की एक रैली के दौरान तुर्की, कतर, सऊदी अरब और फ्रांस के दूतावासों पर हमला किया गया था.

इस बीच सीरिया के शहरों में लोकतंत्र समर्थकों पर हमले जारी हैं और रविवार को हमा शहर में चार लोगों को गोली मार दी गई है.

संयुक्त राष्टर के अनुसार सीरिया में मार्च से लेकर अब तक लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे साढ़े तीन हज़ार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

संबंधित समाचार