मिसाइल सुरक्षा पर रूस और अमरीका में ठनी

मेदवेदेव इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मेदवेदेव ने अमरीका को चेतावनी दी है

रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव ने चेतावनी दी है कि अगर अमरीका यूरोप में मिसाइल सुरक्षा कवच बनाने की योजना आगे बढ़ाता है, तो रूस जवाबी कार्रवाई करेगा.

उन्होंने कहा कि रूसी मिसाइलें पोलैंड की सीमा से लगे कैलिनिनग्राद में तैनात की जा सकती हैं. मिसाइल सुरक्षा प्रणाली को लेकर अमरीका और रूस के रिश्ते काफ़ी प्रभावित हुए हैं.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस योजना से कुछ विवादास्पद पहलुओं को हटाया तो है, लेकिन रूस का कहना है कि उसकी चिंताओं पर अब भी ध्यान नहीं दिया गया है.

राष्ट्रपति मेदवेदेव ने टेलीविज़न पर दिए अपने संदेश में कड़ा रुख़ अपनाते हुए कहा है कि अगर इस मामले में रूस, अमरीका और नेटो के बीच समझौता नहीं होता, तो कैलिनिनग्राद में 'आधुनिक हथियार प्रणाली' लगाई जाएगी.

चेतावनी

उन्होंने ये भी चेतावनी दी कि परमाणु हथियारों को कम करने के समझौते से भी रूस अलग हो सकता है.

नेटो के प्रमुख आंद्रे फ़ॉ रासमूसेन ने मेदवेदेव की टिप्पणी पर निराशा जताई है. अमरीका चाहता है कि मिसाइल सुरक्षा कवच वर्ष 2020 तक तैयार हो जाए, लेकिन रूस इसे अपनी परमाणु शक्ति के लिए ख़तरा मानता है.

अमरीका कहता रहा है कि मिसाइल सुरक्षा प्रणाली का मकसद ईरान जैसे देशों की ओर से संभावित ख़तरे से सुरक्षा के लिए है.

जॉर्ज बुश के राष्ट्रपति रहते अमरीका ने पोलैंड और चेक गणराज्य में इस मिसाइल सुरक्षा प्रणाली के बड़े हिस्से को स्थापित करने का सोचा था.

लेकिन रूस ने इसका कड़ा विरोध किया था. बाद में बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद इस योजना में कुछ बदलाव तो किए गए, लेकिन रूस अब भी पूरी तरह संतुष्ट नहीं है.

संबंधित समाचार