भारत को मिलेगा ऑस्ट्रेलिया से यूरेनियम

ऑस्ट्रेलिया की सत्तारुढ़ लेबर पार्टी ने भारत को यूरेनियम निर्यात किए जाने पर लगाया गया प्रतिबंध हटा लिया है.

ऑस्ट्रेलिया के पास दुनिया का 40 प्रतिशत यूरेनियम है और वो चीन जापान, ताइवान और अमरीका को यूरेनियम निर्यात करता है.

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को यूरेनियम निर्यात पर रोक लगा दी थी क्योंकि भारत परमाणु अप्रसार संधि का सदस्य नहीं है.

लेबर पार्टी के वार्षिक सम्मेलन के दौरान हुई एक ज़बर्दस्त बहस में प्रधानमंत्री जूलिया गिलार्ड ने कहा है कि यह बदलाव देश के हित में है.

गिलार्ड का कहना था, '' इस सम्मेलन में हमें देशहित में फैसला लेना है. ऐसा फ़ैसला लेना है जिसमें हमें भारत के साथ सामरिक भागेदारी करनी है.''

गिलार्ड का कहना था कि भारत को यूरेनियम बेचने पर सहमति कड़े सुरक्षा नियमों के आधार पर होगी ताकि ये तय किया जा सके कि इस यूरेनियम का इस्तेमाल नागरिक कार्यों के लिए होगा न कि परमाणु हथियारों के लिए.

इस बहस में सरकार में दरार भी सामने आ गई थी क्योंकि परिवहन मंत्री एंथनी अल्बानीज़ ने इसका विरोध किया था.

उनका कहना था कि जापान का फुकुशिमा संयंत्र मार्च महीने में भूकंप और सूनामी में बुरी तरह बर्बाद हुआ था. इसके बाद जर्मनी, स्विटज़रलैंड और इटली ने परमाणु ऊर्जा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता कम की है.

हालांकि उनके प्रस्तावो को बहुत समर्थन नहीं मिल पाया.

संबंधित समाचार