'ब्लादिमीर पुतिन की लोकप्रियता को झटका'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption रूस में चुनाव बाद हुए जनमत सर्वेक्षण में कहा गया है कि ब्लादीमीर पुतिन की लोकप्रियता पर में भारी कमी आई है.

रूस के संसदीय चुनावों के बाद हुए जनमत सर्वेक्षण में कहा गया है कि व्लादिमीर पुतिन की लोकप्रियता में भारी कमी आई है.

एक्ज़िट पोल में कहा गया है कि वो जीत तो रहे हैं, लेकिन उनके पक्ष में कुल मतों के आधे से कम मत गए हैं.

रूस के सरकारी टीवी चैनल के एक्ज़िट पोल के मुताबिक पुतिन की यूनाइटेड रशिया पार्टी को कुल मतों का 48.5 फ़ीसदी मत मिल रहे है जो कि 2007 में मिले 64 फ़ीसदी मतों से काफ़ी कम हैं.

इस तरह पुतिन की पार्टी को 450 सदस्यों वाली ड्यूमा में 220 सीटें ही हासिल होंगीं.

पार्टी के एक प्रमुख बोरिस ग्रेज़लोव ने यूनाइटेड रशिया के ड्यूमा में सबसे बड़े दल के रूप में बने रहने की उम्मीद जताई है. उनका कहना है कि पार्टी बहुमत बरकरार रखेगी.

अगर मतों की गणना के बाद इन्ही नतीजों की पुष्टि होती है तो इसका मतलब होगा कि यूनाइटेड रशिया ड्यूमा में वर्तमान दो तिहाई बहुमत खो देगी.

एक्ज़िट पोल में कहा गया है कि 20 फ़ीसदी मतों के साथ कम्युनिस्ट पार्टी दूसरे स्थान पर रहेंगी.

धांधली की शिकायतें

चुनाव के दौरान कई जगह चुनावी क़ानून के उल्लंघन के आरोप लगे हैं. रूस के एकमात्र स्वतंत्र निगरानी समूह गोलोस के पास 5300 शिकायतें आई हैं.

कम्युनिस्ट पार्टी के उपप्रमुख ने पार्टी की वेबसाइट पर लिखा है कि दिन भर उनके पास धांधली और क़ानून के उल्लंघन से संबधित हज़ारों फोन कॉल आती रहीं.

प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन ने आरोप लगाया है कि विदेशी ताकतें चुनावों में दखलअंदाज़ी कर रही हैं. पुतिन सत्ताधारी यूनाइटेड रशिया पार्टी के अध्यक्ष हैं.

ड्यूमा के कई सदस्यों ने भी सवाल उठाया है कि क्यों एक ऐसी संस्था रूसी चुनावों की निगरानी कर रही है जिसे बाहर से पैसा मिलता है.

मास्को में मौजूद बीबीसी संवाददाता का कहना है कि अगर सर्वेक्षण के परिणाम सही साबित होते हैं तो ये पुतिन के लिए काफ़ी बड़ा झटका होगा क्योंकि पुतिन तीन महीने बाद फिर से राष्ट्रपति पद के लिए खड़े होने वाले हैं.

पुतिन 2000 और 2008 में राष्ट्रपति रह चुके हैं.

रूस में निचले सदन ड्यूमा के लिए इस चुनाव को पुतिन की लोकप्रियता पर जनमतसंग्रह के तौर पर देखा जा रहा है.

इस बीच, मास्को पुलिस ने कहा है कि उसने रविवार को विपक्षी प्रदर्शनकारियों को ग़िरफ़्तार किया है.

संबंधित समाचार