यूरोपीय संघ की संधि में बदलाव पर सहमति नहीं

  • 9 दिसंबर 2011
यूरो इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ब्रिटेन ने यूरोज़ोन संधि में बदलाव के प्रस्ताव का विरोध किया है

ब्रसल्स में देर रात तक चली बैठकों के बाद यूरोज़ोन के सभी 23 देशों ने सरकारी धन को बचाने के लिए एक नई संधि लाने की योजना का समर्थन किया है लेकिन इसके लिए ज़रूरी ब्रिटेन समेत यूरोपीय संघ के सभी 27 देशों को नए समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए राजी नहीं किया जा सका.

इस संधि योजना के ज़रिए यूरोपीय संघ के सभी देशों के बजट घाटे को कम करने की कोशिश के साथ-साथ, कर्ज़ संकट के दौरान यूरो मुद्रा में विश्वास कायम रखने पर सहमति बनी थी.

इस नए अनुबंध के मुताबिक इसमें शामिल सदस्य देशों के राष्ट्रीय बजट में ज्य़ादा तालमेल स्थापित किया जाएगा.

जो सदस्य देश अपने वित्तीय घाटे में अनुबंध के नियमों का उल्लंघन करेंगे उनपर जुर्माना भी लगाया जाएगा.

यूरोपीय केंद्रीय बैंक के मुख्य अधिकारी के अनुसार इस समझौते से यूरो देशों की आर्थिक नीति अनुशासित होगी.

संशोधन पर असहमति

ब्रसेल्स में बीबीसी के आर्थिक संवाददाता एंड्रयू वॉकर के अनुसार ब्रिटेन और जर्मनी के नेता इस बैठक में यूरोज़ोन देशों की वित्तीय व्यवस्था को मज़बूत करने के प्रस्ताव के साथ आए थे.

इसके लिए वे मौजूदा यूरोज़ोन संधि में कुछ बदलाव लाना चाहते थे जिसके लिए सभी सदस्य देशों के बीच सहमति नहीं बन पाई.

इस प्रस्ताव का विरोध कर रहे ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा कि वे ऐसा पर्याप्त सुरक्षा नहीं मिलने के कारण कर रहे हैं.

कैमरन ने प्रस्ताव लाए जाने के बाद ब्रितानी वित्तीय संगठनों पर इससे होने वाले असर पर चिंता जताई है.

संबंधित समाचार