सैटेलाइट की मदद से पेरु के प्राचीन स्थलों की खोज

  • 11 दिसंबर 2011
पेरु इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पेरु में लाखों प्राचीन स्थल है जिनमें से केवल कुछ के बारे में ही पता चल पाया है

पिछले चार साल से इटली के पुरातत्वविद सैटेलाइट तकनीक के ज़रिए पेरु में स्थित प्राचीन स्थलों की खोज और उन पर शोध करने का काम कर रहे हैं.

इटली के पुरातत्वविदों की ये टीम सैटेलाइट के ज़रिए प्राप्त की गई तस्वीरों की मदद से ये काम कर रही हैं.

उदाहरण के तौर पर ये टीम देश के दक्षिणी भाग में हज़ारों साल पहले नाज़्का सभ्यता द्वारा सूखे पठार पर उकेरे गए पशुओं के चित्रों को समझने की कोशिश कर रहे हैं.

मिस्र में सालों से सैटेलाइट तस्वीरों की मदद से वहाँ के ऐसे प्राचीन स्थलों के बारे जाना जा सका है जिसें आमतौर पर नहीं देखा जा सकता था.

लेकिन ये तकनीक दक्षिणी अमरीका में कुछ मायनों में नई है.

पेरु कई प्राचीन सभ्यताओं का जन्म स्थल रहा है जिसमें से एक 'इंका सभ्यता' भी थी.

पेरू में अनुमानित एक लाख ऐसे पुरातन स्थल है जिनमें से केवल कुछ को ही खोजा जा सका है.

सैटेलाइट से खोज

इटली के पुरातत्वविदों की टीम की अगुवाई कर रहे निकोल मेसिनी का कहना है कि इस तकनीक की मदद से उन स्थलों को खोजने में मदद मिलेगी जो आसमान सी ली गई तस्वीरों में नहीं दिखाई देती है.

उनका कहना है कि सैटेलाइट द्वारा ली गई तस्वीरों से वैज्ञानिकों को मिट्टी और पत्थरों की परतों को हटाकर उनके भीतर, या फिर घने जंगलों में भी देख पाएंगे.

मसिनी का कहना है,''पेरु में ज़्यादातर पुरातात्विक स्थान ऐसे है जहां पहुंचना कठिन है. जैसे वहां सीयरा नाम का एक मरुस्थल है जिसपर सीधे तौर पर और ना ही आसमान से निगरानी रखा जा सकती है. ऐसी स्थिति में निगरानी या स्थिति पर नज़र रखना केवल सैटेलाइट डेटा की मदद से ही संभव है.''

साल 2008 में मेसिनी की टीम ने इन्फ्रा रेड और बहुआयामी तस्वीरों की मदद से पेरु के गहरे मरुस्थल में जाकर प्राचीन अडोब पिरामिड को खोज निकाला था.

लेकिन सैटेलाइट की इस तकनीक का और एक महत्वपूर्ण उपयोग है.

उदाहरण के लिए इराक़ में इसका इस्तेमाल खाड़ी युद्ध से पहले और बाद में प्राचीन स्थलों में हुई लूटपाट के बाद हुए प्रभावों को जानने के लिए किया गया.

मेसिनी का मानना है कि पेरु में एक बड़े क्षेत्रफल में सभ्यता फैला हुई है लेकिन शोध करने के संसाधन कम है. सैटेलाइट तस्वीरों के तुलनात्मक अध्ययन से वैज्ञानिक ये भी पता लगा सकते है कि मानव गतिविधियों से इन पुरातात्विक स्थलों पर कोई नकारात्मक प्रभाव हुआ है.

इटली के पुरातत्वविदों का मानना है कि सैटेलाइट के ज़रिए अध्ययन मंहगा है लेकिन पेरु में पर्यटन राजस्व का तीसरा बड़ा स्रोत है ऐसे में वे इस ख़र्च की भरपाई कर लेगा.

संबंधित समाचार