फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति भ्रष्टाचार के दोषी

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सुनवाई के दौरान फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ज़्याक शिराक अदालत नहीं गए क्योंकि उन्हें तंत्रिका से जुड़ी बिमारियां हैं.

फ़्रांस की एक अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति ज़्याक शिराक़ को ग़बन और अपने पद के दुरुपयोग के जुर्म में दो वर्ष की सज़ा सुनाई है. हालांकि इस सज़ा को अभी लागू नहीं किया गया है.

79 वर्षीय शिराक़ बुरे स्वास्थ्य की वजह से फ़ैसला सुनाए जाने के वक़्त अदालत में नहीं थे हालांकि उनकी बेटी वहां मौजूद थी. शिराक़ ने इन सभी आरोपों से इनकार किया है.

ज़्याक शिराक़ वर्ष 1995 से 2007 तक फ़्रांस के राष्ट्रपति थे. उससे पहले वो पैरिस के मेयर थे और उनपर ये आरोप उसी कार्यकाल से संबंधित थे.

मार्शल फ़िलिप पटेन के बाद किसी जुर्म के लिए दोषी पाए जाने वाले ज़्याक शिराक़ फ़्रांस के पहले पूर्व राष्ट्रपति हैं.

पटेन को 1945 में नाज़ियों के साथ साज़िश रचने के आरोप में दोषी पाया गया था.

बोगस नौकरियां

ज़्याक शिराक़ पर उनकी राजनीतिक पार्टी, रैली फ़ॉर द रिपब्लिक (आरपीआर) के सदस्यों को नगर निगम में ऐसी नौकरियों के लिए वेतन देने का आरोप था जो नौकरियां दरअसल थी ही नहीं.

शिराक़ के साथ इस मामले में नौ अन्य अभियुक्तों में से दो को छोड़ दिया गया जबकि बाक़ी सात दोषी पाए गए हैं.

वर्ष 2004 में, जब शिराक़ फ़्रांस के राष्ट्रपति थे तब तत्कालीन वित्त मंत्री ऐलेन जुप्पे समेत कई लोगों को इस मामले में दोषी पाया गया था.

ऐलेन जुप्पे को 14 महीने की सज़ा सुनाई गई थी हालांकि उसे भी लागू नहीं किया गया था.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ ये फ़ैसला फ़्रांस की जनता को चकित कर देगा क्योंकि अभियोजन पक्ष के मुताबिक़ ज़्याक शिराक़ पर व्यक्तिगत तौर पर किसी ग़ैर-क़ानूनी कृत्य से जुड़े होने का आरोप साबित नहीं हुआ.

ज़्याक शिराक़ को राष्ट्रपति पद पर रहते हुए क़ानूनी सुरक्षा प्राप्त थी. बीस नक़ली अधिकारियों को वेतन देने के मामले में उन्हें दस वर्ष की जेल और डेढ़ लाख यूरो का जुर्माना लगाया जा सकता था.

पूर्व राष्ट्रपति शिराक़ के डॉक्टरों के मुताबिक़ उन्हें ऐसी तंत्रिका-संबंधी बीमारियां हैं जिनसे याददाश्त बार-बार चली जाती है. अब उनके वकील ये तय करेंगे कि इस फ़ैसले के ख़िलाफ अपील की जाए या नहीं.

संबंधित समाचार