'शांति पथ' पर चले उत्तर कोरिया: अमरीका

उत्तर कोरिया इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption उत्तर कोरिया की स्थिति पर अमरीका की नज़र है

अमरीका ने उत्तर कोरिया से अपील की है वो अपने नेता किम जोंग इल की मौत के बाद शांति का रास्ता अपनाए.

अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमरीका उत्तर कोरिया के लोगों की मदद के लिए तैयार है और वो कोरियाई प्रायद्वीप में सुरक्षा का माहौल बनाना चाहता है.

शनिवार को उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग इल की मौत दिल का दौरा पड़ने से हो गई थी, लेकिन उनकी मौत की घोषणा सोमवार को सरकारी टेलीविज़न पर की गई.

किम जोंग इल की मौत के बाद अमरीका उत्तर कोरिया के पड़ोंसी देशों से लगातार विचार-विमर्श कर रहा है.

एक बयान में हिलेरी क्लिंटन ने कहा है, "हम उम्मीद जताते हैं कि उत्तर कोरिया का नया नेतृत्व देश की प्रतिबद्धता का सम्मान करते हुए शांति का रास्ता अपनाएगा, अपने पड़ोसियों से रिश्तों में सुधार करेगा और अपने लोगों के अधिकारों का सम्मान करेगा."

समीक्षा

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी दक्षिण कोरिया और जापान के नेताओं से बातचीत की है और किम जोंग इल की मौत के बाद इलाक़े की स्थिति की समीक्षा की है.

किम जोंग इल की मौत के बाद से ही दक्षिण कोरिया में सेना को अलर्ट पर रखा गया है.

इस बीच चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ बीजिंग स्थित उत्तर कोरिया के दूतावास गए और किम जोंग इल की मौत पर अपनी संवेदना प्रकट की. उत्तर कोरिया और चीन के बीच अच्छे रिश्ते हैं.

समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक़ सोमवार को चीन के विदेश मंत्री ने उत्तर कोरिया के राजदूत से भी मुलाक़ात की थी. सोमवार को ही एक बयान में चीन ने उत्तर कोरिया के लोगों से अपील की थी कि वे किम जोंग उन के नेतृत्व में एकजुट बने रहे.

व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने कहा कि अमरीका उम्मीद करता है कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रम ख़त्म करने की प्रतिबद्धता को पूरा करेगा.

प्रवक्ता ने इससे इनकार किया कि उत्तर कोरिया के लिए किसी खाद्य सहायता समझौते की तैयारी हो रही है, जो परमाणु मुद्दे पर संभावित बातचीत से संबंधित है.

दक्षिण कोरिया में अमरीका के 28 हज़ार सैनिक हैं, जो उत्तर कोरिया से किसी भी ख़तरे का सामना करने की स्थिति में सहयोग के लिए भेजे गए हैं.

शोक

अपने नेता किम जोंग इल की मौत के बाद उत्तर कोरिया के लोग सदमे में हैं. पूरा देश शोक में डूबा हुआ है. राजधानी प्योंगयांग की सड़कों पर मातम का माहौल है और लोगों को रोते देखा जा सकता है.

वर्कर्स पार्टी के कार्यकर्ताओं को अब भी भरोसा नहीं हो पा रहा है कि उनके नेता अब इस दुनिया में नहीं हैं.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़ सत्ताधारी पार्टी के एक कार्यकर्ता कांग टे हो ने रोते-रोते कहा, "मैं इस पर भरोसा नहीं कर सकता हमारे नेता ऐसे कैसे जा सकते हैं. अब हम क्या करेंगे?"

एक अन्य पार्टी कार्यकर्ता हांस सुन ओके ने कहा, "उन्होंने हमारी ज़िंदगी बेहतर बनाने के लिए बहुत कुछ किया. वे हमें ऐसे छोड़कर नहीं जा सकते."

सोमवार को सरकारी टेलीविज़न में किम जोंग इल की मौत की घोषणा की गई. राजधानी प्योंगयांग से बाहर यात्रा के दौरान किम जोंग इल की मौत ट्रेन में शनिवार को हो गई थी.

उत्तर कोरिया के सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनएन ने किम जोंग इल के तीसरे बेटे किम जोंग उन को उनका उत्तराधिकारी बताते हुए लोगों से उनका समर्थन करने की अपील की है.

संबंधित समाचार