'पाक में सैनिकों पर हुए हमलों के लिए अमरीका ने ग़लती मानी'

पाक-सेना
Image caption अफ़गान सीमा की सुरक्षा में लगी पाकिस्तानी फौज

अमरीका ने पहली बार ये स्वीकार किया है कि पाकिस्तान-अफग़ानिस्तान सीमा पर पिछले महीने हुए हवाई हमले के लिए काफ़ी हद तक अमरीका ही ज़िम्मेदार है.

अमरीकी सेना के ज़रिए किए गए इन हवाई हमलों में 24 पाकिस्तानी सैनिकों की मौत हो गई थी.

अमरीका में एक जांच रिपोर्ट में ये कहा गया है कि अमरीकी फौ़ज ने ये क़दम अपनी सुरक्षा के लिए काफ़ी सोच समझकर कर उठाया था.

लेकिन उन्होंने ये भी माना है कि किसी कारणवश अमरीकी फ़ौज का अपने पाकिस्तानी सहयोगियों के साथ बेहतर तालमेल नहीं बन पाया था.

अमरीकी अख़बार 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' को लीक हुई एक रिपोर्ट के अनुसार अमरीकी सेना ने ना सिर्फ़ कई ग़लतियां की बल्कि अपने पाकिस्तानी सहयोगियों को ग़लत जानकारियां भी दी.

हमले का विरोध

इस हमले का पाकिस्तान सरकार ने कडा़ विरोध करते हुए पाकिस्तान से होकर नेटो छावनी तक रसद पहुंचाने वाले सभी रास्तों को बंद कर दिया था.

अमरीका की इस जांच रिपोर्ट के बाद पाकिस्तान की तरफ़ से अभी तक कोई औपचारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है.

इस इलाके में अमरीका की आतंकवाद विरोधी लड़ाई में उनके अहम सहयोगी रहे पाकिस्तान ने अमरीका से हमले के लिए सार्वजनिक तौर पर माफ़ी की मांग की थी.

अमरीका ने इस पर अभी तक माफ़ी तो नहीं मांगी है लेकिन एक ताज़ा बयान जारी कर अमरीका ने एक बार फिर से 26 नवंबर को मोहमंद में हुए इस हवाई हमले में 24 पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने पर दुख जताया है.

बयान में लिखा है, ''अफ़गान सीमा के आस-पास तैनात अमरीकी और पाकिस्तानी फ़ौज के बीच तालमेल की कमी, और सीमाओं के बारे में ग़लत जानकारी के कारण ये हादसा हुआ.इस हादसे का अमरीका को भी काफ़ी दुख है'.

संबंधित समाचार