माँ का सौ साल पुराना ख़त मिला

  • 23 दिसंबर 2011
चिट्ठी इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption चिट्ठी चिमनी में सौ साल तक सुरक्षित रही

आयरलैंड की डाउन काउंटी में रहने वाले विक्टर बार्टलेम को इस साल क्रिसमस के अवसर पर एक नायाब तोहफ़ा मिला है.

विक्टर को अपनी माँ का लिखा हुआ एक सौ साल पुराना ख़त मिला है.

इस ख़त पर वर्ष 1911 के क्रिसमस की तारीख़ लिखी हुई है और ये बहुत ही मुड़ेतुड़े हाल में डबलिन के एक घर की चिमनी से मिला.

इस चिमनी में ये ख़त दशकों तक पड़ा रहा.

विक्टर बार्टलेम की माँ हैना हॉवर्ड ने ये ख़त सांता क्लॉज़ को उस समय लिखा था जब वे मात्र दस साल की थीं.

इस ख़त में एक सूची है जिसमें उन्होंने लिखा था कि वे क्रिसमस के मौक़े पर क्या-क्या चाहती हैं.

इस ख़त के बारे में पहली बार वर्ष 1992 में पता चला था जब मकान के मालिक जॉन ब्राइन ने घर को गर्म रखने वाली सेंट्रल हीटिंग प्रणाली लगवाई थी.

उन्होंने हैना के इस ख़त को यादगार के तौर पर चिमनी में ही रहने देना का फ़ैसला किया था.

चकित

इस ख़त के बारे में उन्होंने आइरिश टाइम्स अख़बार को इसी हफ़्ते ही बताया जिसके बाद विक्टर को इस ख़त के बारे में जानकारी मिली.

विक्टर को इस ख़त के बारे में अपनी पत्नी से पता चला. उनकी पत्नी ने अख़बार में पढ़ा था कि ऑकलैंड टेरस की एक छोटी लड़की ने अपना ख़त चिमनी में डाल दिया था.

इसके बाद विक्टर को लगा कि ये ख़त उनकी माँ का हो सकता है.

विक्टर का कहना था, ''मुझे विश्वास नहीं हो रहा है, ये बहुत ही चकित करने वाला था. ये एक बच्ची का लिखा हुआ बहुत ही प्यारा ख़त है.''

विक्टर का कहना है कि इस ख़त को लेकर आ रही लोगों की प्रतिक्रियाओं से वे अभिभूत हैं.

हैना के इस ख़त में एक लंबी चौड़ी सूची थी जिसमें एक गुड़िया, टोपी के साथ एक रेन कोट, एक जोड़ा दस्ताना, एक टॉफ़ी एपल, सोने और चांदी के सिक्के और एक बड़ी चॉकलेट भी शामिल थी.

हैना के दो बेटे थे , हॉवर्ड और विक्टर और उनकी मौत वर्ष 1978 में हो चुकी है.

संबंधित समाचार