सीरिया में आत्मघाती हमले, 44 की मौत

  • 24 दिसंबर 2011
कार हमले इमेज कॉपीरइट s
Image caption सरकार विरोधी कार्यकर्ताओं ने कहा है कि ये हमले सरकार ने अरब लीग के प्रयवेक्षकों को प्रभावित करने के लिए ख़ुद ही करवाए है.

सीरिया की राजधानी दमिश्क में सुरक्षा ठिकानों पर हुए दो आत्मघाती कार हमलों में कम से कम 44 लोगों की मौत हो गई है और 100 से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं.

सरकारी टेलीविज़न के अनुसार अल-कायदा के संदिग्ध चरमपंथियों ने कफ़्र सुसा इलाक़े में आम सुरक्षा निदेशालय के एक अड्डे और एक सुरक्षा एजेंसी पर हमला किया.

लेकिन सरकार विरोधी कार्यकर्ताओं ने कहा है कि ये हमले सरकार ने अरब लीग के पर्ववेक्षकों का रुख़ प्रभावित करने के लिए ख़ुद ही करवाए है.इस समय अरब लीग की एक टीम सीरिया में मौजूद है.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि मार्च में आरंभ हुए प्रदर्शनो में पाँच हज़ार से ज़्यादो लोगों की मौत हुई है और हज़ारों लोगों को हिरासत में लिया गया है.

अरब लीग के पर्यवेक्षकों से कहा गया है कि वह इस पर नज़र रखें कि सरकार समझौते का पालन कर रही है या नहीं. समझौते का मकसद ये है कि दोनों तरफ़ से हिंसा को समाप्त किया जा सके, सुरक्षा बलों को गलियों से हटाया जा सके और सभी प्रदर्शनकारियों को हिरासत से रिहा किया जा सके.

लेकिन मानवाधिकार और विपक्ष के कार्यकर्ताओं का कहना है कि हिंसा शुक्रवार को जारी रही और सुरक्षा बलों ने कम से कम 12 नागरिकों को गोलियों से मार डाला.

'अल क़ायदा ज़िम्मेदार'

शुक्रवार को दमिश्क में हुए दोनों धमाके कुछ ही अंतराल के बाद हुए.

थोड़ी ही देर बाद सरकारी टीवी पर बताया गया कि दोनों हमले आत्मघाती हमलावर ने किए थे जो विस्फोटकों से लदी गाड़ियाँ लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय के अड्ड़ों और सुरक्षा एजेंसी की शाखा पर आए थे.

सरकारी टीवी ने कहा कि प्रारंभिक जाँच से पता चला कि इसके लिए अल क़ायदा ज़िम्मेदार है. तस्वीरों में बचाव दल के लोगों को मलबों में लोगों को ढूँढते दिखाया गया है.

लेकिन बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इन हमलों के समय को लेकर कार्यकर्ता काफ़ी सशंकित हैं.

संबंधित समाचार